Saturday, Nov 27, 2021
-->
yogi bjp up govt laws for protection corona warriors doctors nuses know punishments rkdsnt

डॉक्टर्स-नर्स से की बदसलूकी पर योगी सरकार सख्त, जानें अपराध और उनकी सजा

  • Updated on 5/7/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। यूपी को योगी सरकार ने कोरोना वारियर्स (चिकित्सक, पैरा मेडिकल स्टाफ, सफाईकर्मी, पुलिस कर्मी आदि) के सुरक्षा के लिए सख्त कानून बना दिया है। वारियर्स पर हमला या बदसलूकी करने वाले को  छह माह से सात साल की जेल  हो सकती है। साथ ही 50 हजार से लेकर 5 लाख तक के जुर्माने का भी प्रावधान किया गया है। इसके लिए कैबिनेट ने उप्र लोकस्वास्थ्य एवं महामारी रोग नियंत्रण अध्यादेश-2020 को मंजूरी  दे दी है। यह जानकारी कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना ने लोकभवन में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस के दौरान दी। 

श्रमिक स्पेशल ट्रेनें रोकने का भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या ने किया बचाव, उठे सवाल

उन्होंने कहा कि नए कानून के तहत स्वास्थ्य कर्मियों, पैरा मेडिकल कर्मियों, पुलिस कर्मियों, स्वच्छता कर्मियों के साथ ही शासन द्वारा तैनात किसी भी कोरोना वारियर्स पर किये गये हमले या बदसलूकी पर 6 माह से लेकर 7 साल तक की सजा का प्रावधान, 50  हजार से लेकर 5 लाख तक का जुर्माना देय होगा। 

बिहार में कोरोना: सर्वदलीय बैठक में CM नीतीश के सामने तेजस्वी लगाई सुझावों की झड़ी

यही नहीं कोरोना वारियर्स पर थूकने, किसी तरह की गंदगी फेंकने और क्वारंटीन के दौरान आइसोलेशन तोड़ने और इनके खिलाफ हमले या बदसलूकी के लिए भड़काने वाले पर भी कड़ी कार्रवाई होगी। इसके लिए 2 से 5 वर्ष तक की सजा और 50 हजार से 2 लाख तक के जुर्माने के प्रावधान को भी कैबिनेट ने मंजूरी दी है। 

स्वरा भास्कर को भी रास आ रहा है राहुल गांधी का विशेषज्ञों से बातचीत का सिलसिला

- क्वारंटाइन का उल्लंघन करने पर 1 से 3 साल की सजा और जुर्माना 10 हजार से 1 लाख तक का होगा। 

- अस्पताल से भागने वालों के खिलाफ 1 वर्ष से 3 वर्ष सजा और जुर्माना 10 हजार रुपए से लेकर 1 लाख तक होगा। 

- अश्लील एवं अभद्र आचरण करने पर 1 से 3 साल की सजा और जुर्माना 50 हजार से 1 लाख रुपये तक के जुर्माने और लॉक डाउन तोड़ने, इस बीमारी को फैलाने वालों के लिए भी कठोर सजा का प्रावधान है।

गडकरी के पैकेज को लेकर सुब्रमण्यन स्वामी का केंद्रीय वित्त मंत्रालय से सवाल

-अगर कोई कोरोना मरीज स्वयं को छिपाएगा तो उसे 1 से लेकर 3 वर्ष की सजा हो सकती है, और 50 हजार रुपये से एक लाख तक का जुर्माना देय होगा। 

- अगर कोरोना मरीज जानबूझ कर सार्वजनिक परिवहन से यात्रा करता है तो उसके लिए एक से 3 साल तक की सजा और 50 हजार से 2 लाख तक के जुर्माने का प्रावधान है।

CAA प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी को लेकर 1100 फेमिनिस्ट सक्रिय, निशाने पर दिल्ली पुलिस

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.