Monday, Jun 21, 2021
-->
zee media building noida sealed due to corona sudhir chaudhary viral on social media rkdsnt

कोरोना की वजह से नोएडा में Zee मीडिया की बिल्डिंग सील, कभी भूषण ने उठाए थे सवाल

  • Updated on 5/25/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना संक्रमण की वजह से नोएडा में Zee मीडिया की बिल्डिंग सील कर दी गई है। बता दें कि इससे पहले सोशल मीडिया पर कोरोना संक्रमण के मुद्दे पर जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी ट्रेंड में चल रहे थे। सुधीर चौधरी और वकील प्रशांत भूषण के बीच सोशल मीडिया पर जंग छिड़ गई थी। उस दौरान सुधीर चौधरी ने जी न्यूज के कर्मचारियों को कोरोना होने की बात को खारीज किया था और इसे टुकड़े-टुकड़े गैंग की साजिश करार दिया था।

केंद्र की मोदी सरकार कोई भी संकट मैनेज नहीं कर सकती है: यशवंत सिन्हा

दरअसल, मुद्दा जी न्यूज के कर्मचारियों का कोरोना संक्रमित होना और उसके बाद सुधीर चौधरी का सोशल मीडिया पर ट्रोल होना था। दरअसल, सुधीर चौधरी ने दिल्ली के तबलीगी जमात के मुद्दे पर कोरोना जेहाद शब्द का इस्तेमाल किया था। इसी को लेकर अब सुधीर चौधरी को ट्रोल किया जा रहा था। प्रशांत भूषण ने भी इस मुद्दे को हाथ से जाने नहीं दिया था। 

जावेद अख्तर ने कोरोना संकट में गिरफ्तारियों को लेकर अमित शाह पर साधा निशाना

 

अपने ट्वीट में प्रशांत भूषण ने लिखा था, "सब लोग चाहते हैं कि उनका टेस्ट हो जाय और सबको वर्क फ्रॉम होम की अनुमति मिले. केवल जरूरी लोग ही दफ्तर आएं. लेकिन सुधीर चौधरी ने सबको धमकाते हुए कहा कि- मैं कल से ये नहीं सुनना चाहता कि किसी को बुखार आ रहा है, खांसी आ रही है"।क्या इसे तिहाड़ नहीं भेजा जाऐ?' इसके साथ ही प्रशांत भूषण ने कुछ ऐसे ट्वीट को रिट्वीट किया है, जो सुधीर चौधरी पर तंज कसते हैं।'

AAP सांसद ने कसा हाई कोर्ट की तल्ख टिप्पणी को लेकर BJP सरकार के गुजरात मॉडल पर तंज

भूषण यह भी सवाल उठाया था, 'आखिर क्यों जी के प्रबंधन और सुधीर चौधरी को क्यों नहीं गिरफ्तार किया गया कि उन्होंने कोविड पीड़ित कर्मियों को काम पर लगाए रखा और यह आपदा प्रबंधन अधिनियम और महामारी अधिनियम में बिल्कुल उल्लंघन है।' इस ट्वीट में उन्होंने नोएडा पुलिस को टैग किया था। 

घरेलू उड़ानों को लेकर ये हैं स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा दिशा निर्देश, ना करें अनदेखी

उधर सुधीर चौधरी ने भी प्रशांत भूषण के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा था, 'सुप्रीम कोर्ट को ऐसे वकीलों के ख़िलाफ़ स्वयं संज्ञान लेकर कार्यवाही करनी चाहिए जो ऐसे संकट के दौर में FAKE NEWS फैलाकर अपनी दुकानदारी चला रहे हैं।देश के तो ये कभी भी नहीं थे,लेकिन सुप्रीम कोर्ट का भी दुरुपयोग करते हैं।जिस खबर को ये सब लोग मिलकर फैला रहे हैं वो ग़लत है।'

चिदंबरम बोले- RSS को शर्म आनी चाहिए कि कैसे सरकार ने अर्थव्यवस्था को....

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.