Friday, Aug 07, 2020

Live Updates: Unlock 3- Day 6

Last Updated: Thu Aug 06 2020 09:55 PM

corona virus

Total Cases

2,021,407

Recovered

1,374,420

Deaths

41,627

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA479,779
  • TAMIL NADU279,144
  • ANDHRA PRADESH196,789
  • KARNATAKA158,254
  • NEW DELHI141,531
  • UTTAR PRADESH108,974
  • WEST BENGAL86,754
  • TELANGANA73,050
  • BIHAR68,148
  • GUJARAT67,811
  • ASSAM50,446
  • RAJASTHAN48,384
  • ODISHA40,717
  • HARYANA37,796
  • MADHYA PRADESH35,082
  • KERALA27,956
  • JAMMU & KASHMIR22,396
  • PUNJAB18,527
  • JHARKHAND14,070
  • CHHATTISGARH10,202
  • UTTARAKHAND7,800
  • GOA7,075
  • TRIPURA5,643
  • PUDUCHERRY3,982
  • MANIPUR3,018
  • HIMACHAL PRADESH2,879
  • NAGALAND2,405
  • ARUNACHAL PRADESH1,790
  • LADAKH1,534
  • DADRA AND NAGAR HAVELI1,327
  • CHANDIGARH1,206
  • MEGHALAYA937
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS928
  • DAMAN AND DIU694
  • SIKKIM688
  • MIZORAM505
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
not only aedes but also medication on ano philia

मलेरिया : एडीज ही नहीं एनोफिलेज पर भी दें ध्यान

  • Updated on 7/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राजधानी दिल्ली में मलेरिया (एनोफिलेज) (Anophilia) (Malaria) के मामले चौंकाने वाले साबित हो रहे हैं। जबकि, जून-जुलाई में अक्सर डेंगू-चिकनगुनिया (एडीज) (Aedes) ही प्रभावित करता है। ऐसे में बढ़ते मलेरिया (Malaria) के मामलों पर चिंता करने की जरूरत है। विशेषज्ञों (Scientist) की मानें तो राजधानी दिल्ली (Capital Delhi) में जिस तादाद में डेंगू-चिकनगुनिया (Dengue Chickengunia) लोगों को प्रभावित करता है, उसे देखते हुए संबंधित विभाग और एजेंसियां पूरी तरह से एडीज की ब्रीडिंग को लेकर सक्रिय है लेकिन इस बीच कहीं न कहीं मलेरिया की ब्रीडिंग से ध्यान भटका है।

सोशल मीडिया से होने वाली बेचैनी से जा सकती है आप की जान !

यही कारण है कि मलेरिया के मामले ज्यादा तादाद में सामने आ रहे हैं। दिल्ली में मानसून (Monsoon) आने के बाद भी छिटपुट मात्रा में बारिश हो रही है। ऐसे में छोटे-छोटे गड्ढ़ों और नालियों में स्थिर जलभराव हो गई है। मलेरिया के मच्छर के लिए यह स्थिति बेहद अनुकूल है। इसलिए अब साफ पानी ही नहीं बल्कि गंदगी और गंदे पानी का भी ख्याल रखना होगा।

सोने से पहले बिल्कुल न खाएं ये चीजें, सेहत पर हो सकता है उल्टा असर

उमस ने दिया मलेरिया (Malaria) को सह : प्रोफेसर जुगल किशोर के मुताबिक इस वक्त मौसम में उमस की वजह से मलेरिया के लिए जिम्मेदार मच्छर (एनोफिलेज) को शह मिल रहा है। मच्छर गंदे पानी में फैलते हैं और उमस वाले माहौल में सक्रिय हो जाते हैं। एडीज और एनोफिलेज अत्यधिक गर्मी या सर्दी में कमजोर पड़ जाते हैं लेकिन घरों में एसी के उपयोग बढ़ने के कारण मच्छरों को घर के अंदर ही माकूल तापमान मिल जाता है। यही कारण है कि आजकल बेमौसम बीमारियां भी प्रभावित करने लगी है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.