Tuesday, Aug 21, 2018

जन्म से ही कुछ लोगों के कान पर होता है छोटा छेद, जानें वजह...

  • Updated on 3/13/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दुनिया में जन्म लेने वाले कुल लोगों में से कुछ ही ऐसे होते हैं जो अपने कान पर एक छेद के साथ पैदा होते हैं। यह छेद कई बार मुश्किल से ही दिखाई देता है। ऐसे लोग जिस चीज के साथ पैदा होते हैं, उसे प्रीयूरीक्यूलर साइनस कहते हैं।

अगर आपके बच्चे हैं काफी जिद्दी तो उनके व्यवहार को एेसे सुधारें पैरेंट्स

यूके में, सिर्फ 1 फीसदी लोगों के साथ ऐसा है। यूएस में यह फ्रीक्वेंसी और भी कम है और भारत सहित एशिया, अफ्रीका के हिस्सों में 4 से 10 फीसदी लोग इससे इफेक्टेड होते हैं। यह छेद ग्रंथि, खरोंच या डिंपल होता है जो खास तौर से उन जगहों पर होता है जहां चेहरे और कान की नरम हड्डी मिलती है।

Navodayatimes

प्रीयूरिक्यूलर साइनस तकनीकी रूप से एक अनुवांशिक बर्थ डिफेक्ट है जो सबसे पहले साइंटिस्ट वेन हेसिंगर ने 1864 मे डॉक्युमेंट किया था। उन्होंने इसे एक कान में ही पाया था लेकिन जिन लोगों के साथ ऐसा होता है, उनमें से 50 फीसदी लोगों के दोनों कान पर छेद देखा गया है।

इस गर्मी अपनी डल स्किन को इन घरेलू नुस्खों से बनाएं सुंदर

अगर आप दुनिया की कुल आबादी का एक फीसदी हैं तो चिंता की कोई बात नहीं। यह किसी प्रॉब्लम की तरफ इशारा नहीं है बल्कि कुछ ऐसा है जिसे आसानी से खत्म किया जा सकता है। एंटीबायोटिक्स से इसे दूर किया जा सकता है। हालांकि अधिकतर मौकों पर साइनस को दूर करने के लिए सर्जरी की जरूरत पड़ती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.