symptoms of silent heart attack

साइलेंट हार्ट अटैक को एसिडिटि समझने की भूल ना करें, जानें इसके लक्षण

  • Updated on 9/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आजकल हर दूसरा इंसान अपने खानपान को लेकर इतना लापरवाह हो गया है कि लोग बिना सोचे समझें बेवक्त कुछ भी खा लेते हैं। जिस वजह से कई बार हमें एसिडिटि (acidity) जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में कई बार लोग अचानक सीने में होने वाले दर्द को एसिडिटी का दर्द समझ लेते हैं जिसके जिस वजह से कई लोग  मौत के मुंह मे चले जाते हैं।

 साइलेंट किलर के रुप में उभर रही है ये बीमारी, जानें इससे जुड़े SYMPTOMS

जी हां, जरूरी नहीं कि हर बार सीने में दर्द होना एसिडिटी ही हो, कई बार ये साइलेंट हार्ट अटैक भी हो सकता है। इस लापरवाही की वजह से हर साल बहुत से लोगों को मौत का सामान करना पड़ता है। आज हम आपको साइलेंट हार्ट अटैक के लक्षणों के बारे में बताएंगे जोकि आपको ऐसी स्थिति का सामना करने में मदद करेगी। तो चलिए जानते हैं क्या है इसके लक्षण।

सीने में भारीपन महसूस करना
अगर आपको सीने में दबाव महसूस होता है तो इसे हर बार एसिडिटि समझकर नजरअंदाज ना करें। अचानक से सीने में भारीपन महसूस होने पर फौरन डॉक्टर के पास जाएं। 

कमजोरी महसूस होना
अगर आपको कभी अचानक से चक्कर आता है या फिर इतनी कमजोरी महसूस होने लगे कि आप ठीक से खड़े भी ना हो पाएं तो इसे किसी भी कीमत पर इस लक्षण को नजरअंदाज ना करें। 

कई गंभीर बीमारियों का रामबाण इलाज है केसर, कुछ दिनों के इस्तेमाल में दिखने लगेगा लाभ

बांह में दर्द
अगर आपको बाएं कंधे में दर्द हो रहा है और ये दर्द सीने तक चला जाए तो इसे साइलेंट हार्ट अटैक के लक्षण हो सकते हैं। 

जबड़े में दर्द
वैसे तो अक्सर जबड़े में दर्द दांत से जुड़ी परेशानियों की वजह से होता है। लेकिन कभी कभी ये दर्द सीने से होकर आपके जबड़े में होने लगता है जिसे बिलकुल भी नजरअंदाज ना करें। 

पैरों और एड़ियों में सूजन
अगर आपके पार में अतानक से सूजन हो रही है तो ये साफ संकेत है कि आपका ह्रदय ठीक से खून को पंप नहीं कर पा रहा है। वहीं ह्रदय की वजह से किडनी भी सही से काम करना बंद कर देता जिस वजह से पैरों में सूजन हो जाती है। 


  

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.