Sunday, Jan 19, 2020

ये हैं बॉलीवुड फिल्मों के देशभक्ति से भरे डॉयलॉग्स

  • Updated on 8/16/2016

Navodayatimesनई दिल्ली (टीम डिजिटल)। हिंदी फिल्मों में शुरू से ही देशप्रेम की भावना से भरपूर फिल्में बनती आ रही हैं। 70 के दशक में मनोज कुमार देशभक्ति की फिल्मों के इतने बड़े चेहरे रहे हैं कि उन्हें भारत कुमार के नाम से जाना जाता है।

इन फिल्मों को देखकर आपके अंदर जाग जाएगी देशभक्ति की भावना

देशभक्ति पर बनी फिल्मों का अपना अलग ही महत्व होता है। इन फिल्मों को लोग खासा पसंद करते हैं। 15 अगस्त 1947 को देश आजाद हुआ आजादी की लड़ाई में कई लोगों ने अपनी जान तक दे दी। ऐसे लोग जिन्होंने आजादी के बाद जन्म लिया और वे मात्र अपने बड़ों से आजादी की कहानियां सुनते हैं। इन्हीं कहानियों पर बॉलीवुड में कई फिल्में बनाई जा चुकी हैं। इन्ही फिल्मो के कई ऐसे डॉयलॉग्स जो आज भी लोगों की जुबां पर रहते हैं। पढें, देशभक्ति से भरे कुछ मशहूर डॉयलॉग्स -

 

देशभक्ति ​गीतों में सबसे शानदार हैं ये 11 गीत

Navodayatimesआमिर खान, फिल्म सरफरोश में - 'मैं अपने मुल्क को अपनी मां मानता हूं। और अपनी मां को बचाने के लिए मुझे किसी की जरूरत नहीं' 

Navodayatimesसनी देओल, फिल्म मां तुझे सलाम में'दूध मांगोगे तो खीर देंगे कश्मीर मांगोगे तो चीर देंगे'

Navodayatimesसनी देओल, फिल्म इंडियन में - 'मैं अपने वतन को अपनी मां मानता हूं और जब कोई दरिंदा मेरी मां की इज्जत लूटे तो उसे रोकने के लिए मुझे किसी की परमिशन की जरूरत नहीं'

Navodayatimesअजय देवगन, फिल्म 23 मार्च 1931 शहीद में- 'बहरों को सुनाने के लिए बम फोड़ने की जररूत होती है। और ये अंग्रेज सरकार गूंगी होने के साथ बहरी भी हो गई है'

Navodayatimesशाहरुख खान, फिल्म चक दे इंडिया में - 'मुझे स्टेट्स के नाम न सुनाई देते हैं और न दिखाई देते हैं... सिर्फ एक मुल्क का नाम सुनाई देता है- INDIA 

Navodayatimesसुनील शेट्टी, फिल्म बॉर्डर में - 'शायद तुम जानते नहीं, यह मिट्टी शेर भी पैदा करती है, ऐसे शेर जो दूसरों को मिट्टी में मिलाते हैं'

सनी देओल, फिल्म बार्डर में - 'अगर वे कहते हैं कि वे नाश्ता जैसलमेर में करेंगे और डिनर दिल्ली में तो मैं हम कहते हैं कि हम नाश्ता भी कराची में करेंगे और लंच भी'

Navodayatimesसनी देयोल, फिल्म गदर में -  'हमारा हिंदुस्तान जिंदाबाद था, जिंदाबाद है और जिंदाबाद रहेगा'

Navodayatimesशाहरुख खान, फिल्म स्वदेस में - मैं नहीं मानता कि हमारा देश दुनिया का सबसे महान देश है, लेकिन यह जरूर मानता हूं कि हममें काबिलियत है, ताकत है, इस देश को महान बनाने की'
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें…

comments

.
.
.
.
.