abhinandan varthaman to be conferred with vir chakra on independence day

पाकिस्तानी F-16 को मार गिराने वाले विंग कमांडर अभिनंदन बर्धमान को वीर चक्र

  • Updated on 8/14/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकवादियों के अड्डे पर भारत की ओर से  किए गए एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान के F-16 विमान को मार गिराने वाले वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन बर्धमान को वीर चक्र से सम्मानित किया जाएगा।

स्क्वार्डन लीडर मिंती अग्रवाल को युद्ध सेवा मेडल दिया जाएगा। मिंती को यह पुरस्कार बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच हवाई संघर्ष के दौरान दिए गए उनके योगदान के लिए दिया गया है।

पाकिस्तान के अंदर बालाकोट में जैश ए मोहम्मद के आतंकी प्रशिक्षण शिविरों पर 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना के बम गिराने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया था। इसके बाद पाकिस्तान ने जवाबी कार्रवाई करते हुए अगले ही दिन भारतीय सैन्य प्रतिष्ठानों को निशाना बनने की नाकाम कोशिश की थी।  

गौरतलब है कि अभिनंदन को पाकिस्तान ने 27 फरवरी को भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के साथ हुई हवाई झड़प के दौरान पकड़ लिया था। हालांकि, उसने बाद में उन्हें स्वदेश वापस भेज दिया था। वह पिछले महीने श्रीनगर में अपने स्कवाड्रन में लौटे थे। 

वीर चक्र देश का तीसरा सबसे बड़ा सैन्य सम्मान है, जो कि युद्धकाल में बहादुरी के लिए दिया जाता है। युद्धकाल में बहादुरी के लिए दिए जाने वाले सम्मानों पर पहले नंबर पर परमवीर चक्र, दूसरे नंबर पर महावीर चक्र और तीसरे नंबर पर वीर चक्र है।

300 से अधिक आतंकी मारे गए थे

पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले के जवाब में भारत ने 26 फरवरी को पाकिस्तान (Pakistan) के खैबर- पख्तूनख्वा प्रांत में जैश- ए- मोहम्मद के ठिकानों पर बमबारी की थी जिसमें 300 से अधिक आतंकी मारे गए थे। इस हमले से बौखलाए पाकिस्तान ने हवाई हमले करने की कोशिश की थी। जवाबी कार्रवाई में विंग कमांडर अभिनंदन ने बेहतरीन तकनीकी कौशल का प्रदर्शन करते हुए पाकिस्तान के F-16 को ढेर कर दिया था। बताते चलें कि F-16 अमेरिका का आधुनिक युद्धक विमान है जिसे अभी तक किसी ने निशाना नहीं बनाया था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.