advani-voted-as-a-common-voter-in-gandhinagar

गांधीनगर में आडवाणी ने आम मतदाता के रूप में किया मतदान, हुए भावुक

  • Updated on 4/23/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय जनता पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेता 91 साल के लाल कृष्ण आडवाणी करीब तीन दशक बाद चुनाव के मैदान से बाहर हैं भारतीय राजनीति में बीजेपी को देश भर में उभारने में आडवाणी जी का अत्यन्त महत्वपूर्ण योगदान रहा है। हालांकि गांधीनगर से आडवाणी जी कि सीट से बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह चुनाव लड़ रहे हैं। प्रत्येक चुनाव में अपनी सूझ-बूझ से बीजेपी को जीत दिलाने वाले आडवाणी मंगलवार को ने एक आम मतदाता के रूप में मतदान किया।

मतदान के दौरान आडवाणी दिखे काफी भावुक
मंगलवार दोपहर को आडवाणी ने अहमदाबाद के शाहपुर हिंदी स्कूल में बने मतदान केंद्र पर अपना वोट डाला। कुछ लोगों को इस खास और भावुक मौके पर आडवाणी को अपने कैमरे में भी कैद करते देखा गया। दरअसल, गुजरात के गांधीनगर की इस सीट पर 1989 से बीजेपी का दबदबा रहा है। तब पार्टी के कद्दावर नेता शंकर सिंह वाघेला यहां से जीते थे। 1991 के आम चुनाव में यहां से लाल कृष्ण आडवाणी ने पहली बार जीत दर्ज की थी। इसके बाद यहां से आडवाणी ने 6 बार लगातार जीत हासिल की।

अखिलेश ने लगाया देशभर की EVM में गड़बड़ी का आरोप, चुनाव आयोग ने किया खारिज

Navodayatimes

Jet के लिए 400 करोड़ नहीं, हवाई प्रचार पर उड़ेंगे 1500 करोड़, BJP नंबर-1


1996 अटल बिहारी वाजपेयी ने गांधीनगर सीट से दर्ज की थी जीत
1996 में हवाला स्कैंडल में नाम आने पर आडवाणी ने बेदाग साबित होने तक चुनावी राजनीति से दूर रहने और लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने का निर्णय लिया था। उस वक्त इस सीट से चुनाव लड़ने के लिए अटल बिहारी वाजपेयी से निवेदन किया गया। उस वक्त वाजपेयी ने लखनऊ के साथ गांधीनगर पर भी विजय का परचम लहराया था। हालांकि बाद में वाजपेयी ने गांधीनगर सीट छोड़ दी थी। इसके बाद हुए उपचुनाव में बीजेपी के विजयभाई पटेल यहां से जीते थे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.