Friday, Jun 21, 2019

अंतिम उड़ान मोक्ष यात्रा नाम से शुरू हुआ एयरपोर्ट श्मशान घाट

  • Updated on 7/19/2017

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। गुजरात के बारडोली में एक श्मशान घाट बनाया गया है। इसकी थीम है एयरपोर्ट। इस श्मशान घाट को एयरपोर्ट की तरह डिजाइन किया गया है और जिसका नाम अंतिम उड़ान मोक्ष यात्रा रखा गया है। 

Navodayatimes

इस श्मशान घाट में हवाई जहाज के दो विशाल रेप्लिका रखे गए हैं। इनके नाम मोक्ष एयरलाइन्स और स्वर्ग एयरलाइन्स हैं। इस श्मशान घाट में अनोखा ये है कि जब भी कोई शव अंतिम संस्कार के लिए यहां पहुंचता है तो एयरपोर्ट की तरह अनाउंसमेंट होती है। अनाउंसमेंट कर बताया जाता है कि किस गेट से प्रवेश करना है। इस घाट पर मृतक के परिजनों को सांत्वना देने और ढांढस बंधाने के लिए इंतजाम किए गए हैं। 

Navodayatimes

इस श्मशान के निर्देशक सोमाभाई पटेल ने बताया कि मिन्ढोला नदी के किनारे स्थित यह श्मशान मोक्ष एयरपोर्ट में तब्दील हो गया है। बारडोली के लोग इसे श्मशान नहीं बल्कि मोक्ष एयरपोर्ट के रूप देखेंगे। श्मशान शब्द काफी कटु है, यही वजह है कि इसे अंतिम उड़ान मोक्ष एयरपोर्ट नाम दिया गया है।

Navodayatimes

इस श्मशान में 5 चितास्थल हैं। इनमें से 3 में इलेक्ट्रिक मशीनों से दाह संस्कार किया जाता है। जैसे ही शव को जलाया जाता है, हवाई जहाज की तरह की तरह आवाज आती है। 

Navodayatimes

इस श्मशान में शवों के अंतिम संस्कार के लिए 40 गावों के लोग आते हैं। पिछले एक वर्ष से इस श्मशान को मोक्ष एयरपोर्ट में बदलने की कोशिश की जा रही थी। 

Navodayatimes

Navodayatimes

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.