Sunday, Jun 13, 2021
-->
america president joe biden donald trump sobhnt

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन बोले- चीन की गलत नीतियों का मुकाबला करना होगा

  • Updated on 2/20/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बिडेन ने चीन के साथ संबंधों पर अपनी टिप्पणी की है। जो बिडेन ने कहा है कि चीन के साथ संबंध जटिल हैं।  वह कहते हैं कि उनकी सरकार यूरोप और एशिया के काम करने के लिए तैयार है। साथ ही उन्होंने चीन को लेकर चेतावनी जारी करते हुए कहा कि ड्रेगन के खिलाफ रणनीतिक प्रतिस्पर्धा के लिए तैयारी करनी होगी। अमेरिका यूरोप और एशिया की शांति के लिए किस तरह काम करना है इस के प्लान पर चर्चा करेंगे।    

Toolkit Case: दिशा रवि के समर्थन में उतरी ग्रेटा थनबर्ग, कही ये बात  

 


मैं ग्लोबल सिस्टम में यकीन रखता हूं
बाइडेन ने कहा है कि चीन के साथ प्रतिस्पर्धा कम होने जा रही है। वह कहते हैं कि मैं ग्लोबल सिस्टम में यकीन करता हूं। वह कहते हैं कि हम इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में अपने सहयोगियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। वह कहते हैं कि अमेरिका हमेशा शांति और समृद्धि के लिए काम करता रहा है। और आगे भी काम करता रहेगा।  

साथ मिलकर करेंगे मुकाबला- बाइडेन
बाइडेन ने विदेश मंत्रालय के कर्मचारियों को 'फॉगी बॉटम' मुख्यालय में संबोधित करते हुए कहा, 'हम चीन द्वारा आर्थिक शोषण का मुकाबला करेंगे, मानवाधिकारों, बौद्धिक सम्पदा और वैश्विक शासन पर चीन के हमले को कम करने के लिए दंडात्मक कार्रवाई करेंगे।

किसानों की आड़ में ग्रेटा ने रची थी भारतीय लोकतंत्र को बर्बाद करने की साजिश, जानें पूरी कहानी

बीजिंग के साथ मिलकर काम करने को भी तैयार
चीन को लेकर उनके प्रशासन की नीति कैसी रहेगी इसके संकेत देते हुए उन्होंने कहा, 'लेकिन अमरीका के हित की बात आती है तो हम बीजिंग के साथ मिलकर काम करने को भी तैयार है। हम अपने सहयोगियों तथा भागीदारों के साथ काम करके, अंतरराष्ट्रीय संस्थानों में अपनी भूमिका को नया रूप देकर, विश्वसनीयता एवं नैतिक अधिकार को पुन: प्राप्त करते हुए, देश के अंदर स्थिति बेहतर बनाने के लिए काम करेंगे।'

चौरी- चौरा के शहीदों को इतिहास के पन्नों में प्रमुख नहीं दिया जाना दुर्भाग्यपूर्णः PM मोदी

प्रभावित हुए अमेरिकी कर्मचारी
बाइडेन ने कहा, 'इसलिए ही हमने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अमरीका की भागीदारी बहाल करने और साझा चुनौतियों पर वैश्विक कार्रवाई को उत्प्रेरित करने की खातिर नेतृत्व की स्थिति में आने के लिए काम शुरू कर दिया।' इससे पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने पत्रकारों से कहा था कि उनकी प्राथमिकता 'गोल्डमैन सैक्स' (निवेश बैंकिंग) के लिए चीन में पहुंच प्राप्त करना नहीं है। उन्होंने कहा, 'हमारी प्राथमिकता चीन के आर्थिक शोषण से निपटना है, जिससे अमरीकी नौकरियां और अमरीकी कर्मचारी प्रभावित हो रहे हैं।'

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.