Friday, Feb 26, 2021
-->
andra-pradesh-ysr-congress-tdp-bjp-fake-news-temple-vandalism-sobhnt

मंदिर तोड़फोड़: आंध्र प्रदेश पुलिस का बड़ा दावा, राज्य में TDP-BJP के लोग कर रहे साजिश

  • Updated on 1/16/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) में इस समय मंदिर तोड़े जाने का लेकर राजीतिक गर्मागर्मी बढ़ी हुई है, इसी बीच प्रदेश की वाईएसआर कांग्रेस (YSR Congress) सरकार ने एक पुलिस रिपोर्ट जारी की है। जिसमें दावा किया गया है कि राज्य में मंदिरों में होने वाली तोड़-फोड़ के पीछे विपक्षी पार्टियां टीडीपी और बीजेपी के लोग शामिल हैं। पुलिस ने इन लोगों पर फेक न्यूज (Fake news) फैलाने का भी आरोप लगाया है।  

आज से शुरु हुआ टीकाकरण अभियान, जानें कौन से राज्य में कैसी है तैयारी

टीडीपी- बीजेपी के नेताओं को किया गिरफ्तार
बता दें आंध्रप्रदेश पुलिस ने दावा किया है कि 17 टीडीपी और 4 बीजेपी के नेता राज्य में हो रही मंदिरों में तोड़-फोड़ के  लिए शामिल हैं। पुलिस ने इस मामले में 13 टीडीपी और 2 बीजेपी के नेताओं को इससे जुड़े मामले में गिरफ्तार भी कर  लिया है। वहीं दूसरी तरफ दोनों विपक्षी पार्टियों ने आरोप लगाया है कि सरकार ने अपराधियों को पकड़ने की जगह विपक्षी पार्टियों पर आरोप लगा रही है। 

टाटा ने 'मस्क' के लिए ट्वीट में लिखा, 'आजकल तेरे मेरे प्यार के चर्चे हर अखबार में'

विपक्षी पार्टियों पर कर रहे कार्यवाही
गौरतलब है कि टीडीपी के जनरल सेक्रेटरी नारा लोकेश ने कहा है कि सरकार विपक्षी पार्टियों को निशाने बनाने की कोशिश कर रही है। सरकार असल में देवी देवताओं की की मूर्ति तोड़ने वाले को गिरफ्तार करने की जगह, सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखने वाले और अखबार में लिखने वाले लोगों के खिलाफ कार्यवाही कर रही है ताकि सच को छुपाया जा सके। 

टीडीपी ने दावा किया है कि राज्य में 145 से ज्यादा मंदिरों में तोड़फोड़ वाईएसआर कांग्रेस के समय में हुई है। वहीं पुलिस ने दावा किया है कि उनकी रिपोर्ट्स के अनुसार राज्य में अभी तक 9 जगहों पर ऐसी घटना हुई है। जिसके बाद पुलिस ने जिन लोगों ने फेक न्यूज फैलाई है। उनके खिलाफ कार्यवाही की है। फेक न्यूज फैलाने वालों में टीडीपी और बीजेपी के कई लोग शामिल हैं।  

वैक्सीनेशन की शुरुआत के बाद लोगों में उत्साह, कोरोना वायरस का जलाया पुतला

पुलिस ने की कार्यवाही
विपक्षी पार्टियां कहती है कि सरकार आरोपियों को पकड़ने की कोशिश करने की जगह विपक्षियों पर आरोप लगा रही है ताकि उन पर यह मामला डाला जा सके।  पुलिस ने एक अलग राजामुंद्री मामले में टीडीपी  और बीजेपी के नेताओं को फेक न्यूज फैलाने के मामले में गिरफ्तार किया है इन लोगों ने दो साल पहले हुई एक मंदिर में तोड़-फोड़ की घटना को अभी हाल की घटना बता दिया था। जिसके बाद पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया है।  

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.