Sunday, Oct 02, 2022
-->
ask-the-public-use-money-few-friends-or-give-to-common-people-kejriwal

जनमत कर जनता से पूछें, सकरारी पैसा, चंद दोस्त इस्तेमाल करें या आम लोगों को स्कूल, अस्पताल, सड़क मिले

  • Updated on 8/10/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने आज देश में एक जनमत संग्रह कराने की मांग करते हुए कहा कि देश की जनता से पूछा जाए कि क्या सरकारी पैसा एक परिवार और चंद दोस्तों के लिए इस्तेमाल होना चाहिए या फिर आम लोगों को अच्छी शिक्षा, अच्छा अस्पताल और अच्छी सड़कें बनाने के लिए इस्तेमाल होना चाहिए। 
     उन्होने एक वीडियो संदेश जारी कर कहा कि ये कहा जा रहा है कि यह एक माहौल बनाया जा रहा है कि जनता को फ्री की सुविधाएं देने से देश को नुकसान होगा, तो फिर सरकार का काम क्या है। अगर जनता को फ्री सुविधाएं दी जाएंगी, तो इससे देश को नुकसान होगा और टैक्स देने वालों के साथ धोखा होगा। आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा कि टैक्स देने वालों के साथ धोखा उनके बच्चों को अच्छी और फ्री शिक्षा और लोगों को अच्छा इलाज देने से नहीं होता है। उनके साथ धोखा तब होता है, जब अपने दोस्तों के कर्जे माफ करते हैं। अगर 10 लाख करोड़ रुपए के कर्जे माफ नहीं किए जाते, तो आज देश इस तरह घाटे की स्थिति में नहीं होता और दूध, दही पर जीएसटी लगाने की जरूरत नहीं पड़ती। 
     अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर जनता से मिले टैक्स से जनता को ही सुविधाएं नहीं देंगे और सारी सुविधाएं अपने दोस्तों को देंगे, तो फिर जनता के साथ धोखा ही होगा। टैक्स देने वाला सोचता है कि पैसा तो मुझसे लिया था और यह कह कर लिया था कि आपके लिए सुविधाएं बनाएंगे और मेरे पैसे से अपने दोस्तों के कर्जे माफ  कर दिए। तब पूरे देश का टैक्स देने वाला व्यक्ति धोखा महसूस करता है। टैक्स देने वाला यह देखता है कि मेरे से तो टैक्स लिया, खाने-पीने की चीजों पर जीएसटी लगा दिया। दूध, दही और छाछ पर जीएसटी लगा दिया और अपने अमीर दोस्तों के टैक्स माफ कर दिए। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.