Wednesday, Jan 26, 2022
-->
bank strike nirmala sitharaman budget 2021 sobhnt

आज से शुरु होगी देशभर में बैंक हड़ताल, 10 लाख कर्मचारी होंगे शामिल

  • Updated on 3/15/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitaraman) के आम बजट 2021 के दौरान देश के दो बड़े सार्वजनिक बैंको का निजीकरण करने की घोषणा के बाद सरकारी कर्मचारी इससे नाराज है और उन्होंने इसका विरोध जताने के लिए यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंकिग यूनियन के तहत दो दिन की हड़ताल बुलाई है। जो कि आज से शुरु होगी। बता दें सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस हड़ताल में करीब सरकारी बैंकों के 10 लाख  से ज्यादा कर्मचारी भाग लेने वाले हैं।  

उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी का विलय हुआ जदयू में, नीतीश कुमार ने किया स्वागत 
 

वित्तमंत्री सीतारमण ने किया ऐलान
बैंकों की हड़ताल को लेकर बता दें कमर्चारी बहुत नाराज दिख रहे हैं। सरकार की तरफ से वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने ऐलान किया था कि वह दो बड़ी बैंकों और एक इंश्योरेंस कंपनी को प्राइवेट करने का ऐलान किया है। जिसके बाद सरकारी बैंक के कर्मचारी इसका लगभग विरोध कर रहे हैं।  

आयोग का बड़ा एक्शन! हटाये गए ममता के सिक्योरिटी डायरेक्टर,DM और SP पर भी गिरी गाज

कई यूनियन करने जा रहे हैं हड़ताल
बता दें अगले हफ्ते यूनियन ने ऐलान किया है कि 15 मार्च और 16 मार्च को वह लोग हड़ताल करने जा रहे हैं। इस तरह से यह दोनों दिन हड़ताल की वजह से ग्राहकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। वहीं इससे पहले दो दिन 13 और 14 मार्च को शनिवार और रविवार होने की वजह से बैंक बंद रहेंगे। ऐसे में आम लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। लोगों को अपने जो भी काम है वह उन्हें इन छुट्टियों से पहले ही खत्म कर लेने चाहिए। नहीं तो उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। यहां इससे पहले 11 मार्च को महाशिवरात्रि के दिन देशभर में सभी बैंक बंद रहेंगे।  

उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी का विलय हुआ जदयू में, नीतीश कुमार ने किया स्वागत

सरकारी कर्मचारियों के अंदर बैठा डर
गौरतलब है कि सरकारी बैंक के निजीकरण के फैसले से सरकारी बैंकों के कर्मचारियों के अंदर डर बैठ गया है। इन लोगों की शिकायत है इस तरह से न यह बैंक बचेंगे और नहीं उनकी नौकरी बचेगी। बैंक यूनियनों की माने तो सरकार को ऐसा भ्रम है कि निजी कर्मचारी कुशल होते हैं। वह कहते हैं कि निजीकरण न तो दक्षता लाता है और नही सुरक्षा।  

 

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.