Friday, Jul 30, 2021
-->
bihar congress bharat singh shakti singh gohil rjd tejaswi yadav sobhnt

बिहार कांग्रेस विभाजन के कगार पर! RJD से गठबंधन से खफा 11 MLA थामेंगे नीतीश का हाथ

  • Updated on 1/6/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बिहार (Bihar) की राजनीति में कांग्रेस (Congress) के लिए एक बार फिर से भूचाल आ सकता है। वहां के कांग्रेस के पूर्व विधायक और वरिष्ठ नेता भरत सिंह (Bharat singh) ने दावा किया है कि कांग्रेस के 11 विधायक पार्टी छोड़ सकते हैं। उन्होंने दावा किया है कि बिहार में कांग्रेस के यह विधायक पार्टी में पैसे के बल पर आए हैं। ये जल्दी ही पार्टी छोड़ सकते हैं। कयास लगाए जा रहै हैं कि ये सभी जदयू के कार्यकारी अध्यक्ष अशोक चौधरी के संपर्क में हैं और जल्द ही नीतीश सरकार में शामिल हो सकते हैं। हालांकि भरत सिंह के दावे को बिहार कांग्रेस ने खारिज कर दिया है।

11 विधायक छोड़ सकते हैं पार्टी
भरत सिंह ने आरोप लगाया है कि 19 में से 11 विधायक पार्टी से बाहर से आए हैं। यह विधायक पैसा देकर टिकट खरीदें हैं। इन्हें पार्टी के उसूलों से कोई मतलब नहीं है। यह लोग जल्द ही पार्टी छोड़ देंगे। वह कहते हैं कि एनडीए इस समय अपने आप को मजबूत करने के लिए प्रयासरत है। वहीं इसके अलावा कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा भी ऐसे लोगों में शामिल हैं। जो पार्टी छोड़ना चाहते हैं। इसलिए जल्द ही कांग्रेस बिहार में टूटने वाली है।  

कृषि कानूनों के विरोध में सात जनवरी को ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे किसान

शक्ति सिंह गोहिल ने की थी गुजारिश
बता दें इससे पहले बिहार कांग्रेस के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने बिहार चुनाव के बाद कहा था कि वह बिहार में अपने प्रभार से मुक्त होना चाहते हैं। जिसके बाद कांग्रेस हाईकमान ने उन्हें उनके प्रभार से मुक्त करके उनकी जगह भक्तम चरण दास को बिहार कांग्रेस का प्रमुख बनाया था। बिहार में कांग्रेस ने आरजेडी के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ा है। 

मोदी सरकार से 8वें दौर की वार्ता से पहले किसानों ने आंदोलन को दी रफ्तार

नहीं थे आरजेडी गठबंधन से सहमत
गौरतलब हो कि कांग्रेस नेता भरत सिंह ने यह भी कहा था कि वह पार्टी के आरजेडी के साथ गठबंधन से बिल्कुल भी सहमत नहीं है। उन्होंने कहा कि पार्टी को उन्होंने बिहार में आरजेडी के  साथ गठबंधन करने से मना किया था। उन्होंने कहा है कि पार्टी में अभी कुछ भी सही नहीं चल रहा है। कुछ लोग पार्टी विरोध गतिविधियों में लिप्त हैं। 

सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार को सेन्ट्रल विस्टा निर्माण के दौरान स्मॉग टावर लगाने का दिया निर्देश

पार्टी विरोधी गतिविधियों में है लिप्त
उन्होंने कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह, कांग्रेस प्रदेश मदन मोहन झा और वरिष्ठ नेता सदानंद सिंह जैसे लोग पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त हैं। वह कहते हैं कि पार्टी में रह कर यह लोग पार्टी के खिलाफ काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बिहार में एनडीए पार्टी को तोड़ने में प्रयासरत है। वह जल्द ही पार्टी के 11 विधायकों को अपनी ओर खींच लेगा। उन्होंने कहा कि पार्टी से यह सभी वह विधायक हैं जो बाहर से आए हैं। इन्होंने पैसे से टिकट खरीदी है। यह मौका मिलते ही पार्टी का साथ छोड़ देंगे।  

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.