Tuesday, Aug 09, 2022
-->
bollywwod-celebs-on-spleen-fever-in-muzaffarpur

चमकी बुखार से मौत: बॉलीवुड के ये बिहारी सितारे नहीं आए मदद को सामने

  • Updated on 6/25/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बिहार (bihar) के मुजफ्फरपुर (muzaffarpur) में चमकी बुखार (chamki bukhar) का कहर लगातार बढ़ते ही जा रहा है जिसकी वजह से अब तक मरने वालों की संख्या लगभग 152 तक पहुंच गई है। वहीं अब इस गंभीर सम्सया पर बिहार के सुपौल जिले के रहने वाले उदित नारायण (udit narayan)ने बिहार के सीएम से अपील की है। 

उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा है कि 'बच्चों की मौत की खबर सुनकर मन दुखी हो गया। समझ नहीं आ रहा कि अपनी ओर से क्या करूं। मैं बहुत जल्द पर्सनली सीएम से मिलने जा रहा हूं। मेरी उनसे अपील है कि जात-पात से ऊपर उठकर पूरे प्रदेश का समग्र विकास करें और गरीबी दूर करें। अब इस मुहिम में मैं पीछे नहीं हटने वाला। अगर वो लोग बोलें तो जिस घर में रहता हूं, वह बेचकर दान कर दूंगा। इतनी क्षमता तो रखता हूं।’

शत्रुघ्न सिन्हा से लेकर सुशांत सिंह राजपूत ने नहीं की कोई मदद 
इनके अलावा राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता नितिन चंद्रा (nitin chandra) ने भी अपना सारा काम छोड़ मुजफ्फरपुर में लोगों की मदद के लिए पहुंचे हैं। वहीं उन्होंने शत्रुघ्न सिन्हा के परिवार पर निशाना साधते हुए कहा है कि ‘मैं हैरान हूं कि इस पूरे मसले पर न तो शत्रुघ्न सिन्हा की तरफ से ना कोई काम हुआ है और ना ही बिहार की बेटी कही जाने वाली सोनाक्षी सिन्हा की ओर से कोई बयान आया है।'

इसके अलावा उन्होंने सुशांत सिंह राजपूत पर भी तंज कसते हुए सवाल उठाते हुए कहा कि पिछले 'साल बाढ़ पीड़ितों के लिए सुशांत सिंह राजपूत ने केरल और नागालैंड वासियों की आर्थिक सहायता की थी। तो अब अपने होम टाउन की मदद के लिए कहां गायब है सुशांत।'

ये बॉलीवुड सितारे मदद के लिए पहुंचेंगे मुजफ्फरपुर  
वहीं बिहार के रहने वाले मशहूर डायरेक्टर प्रकाश झा से जब पूछा गया कि इस मसले पर बॉलीवुड सितारे क्या कर रहे हैं तो उन्होंने जवाब दिया, ‘मुझे इसका तो कोई अनुभव नहीं है। चमकी बुखार के बारे में सुना है पर बॉलीवुड के कलाकारों की तरफ से इसमें क्या मदद की जा रही है, वो मुझे नहीं पता।’

खबरें आ रही हैं कि शेखर सुमन, विवेक ओबेरॉय और संदीप सिंह 27 जून को मुजफ्फरपुर पहुंचेंगे। मदद को लेकर शेखर सुमनने कहा है कि ‘हम वहां पर्सनल हाईजीन मुहैया करवाने से लेकर आर्थिक सहयोग भी करेंगे। मैं जानता हूं कि औलाद खोने का गम क्या होता है हो सकता है। मैंने खुद अपना बच्चा खोया है। हम सब की जिम्मेदरी है कि आगे कहीं ऐसा ना हो। ये एक वार्निंग है जिसे सिस्टम को अलर्ट हो जाना चाहिए।’


Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.