Monday, Sep 26, 2022
-->
bullet train will run 7 km under the sea, tunnel will be built

समुद्र के नीचे 7 किलोमीटर दौड़ेगी मुंबई- अहमदाबाद बुलेट ट्रेन, बनेगी सुरंग

  • Updated on 9/24/2022

नई दिल्ली/ सुनील पाण्डेय। मुंबई- अहमदाबाद के बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन मुबंई में समुद्र के नीचे 7 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। वैसे तो 21 किलोमीटर की लंबी सुरंग का निर्माण किया जाएगा, जिसमें से 7 किमी समुद्र के नीचे सुरंग होगी।

सुरंग का निर्माण महाराष्ट्र के ठाणे जिले के बांद्रा- कुर्ला कॉम्प्लेक्स और शिलफाटा में भूमिगत स्टेशन के बीच किया जाएगा। तीव्र गति रेल गलियारे के लिए सुरंग के निर्माण के वास्ते भारतीय रेलवे ने निविदाएं आमंत्रित की हैं। बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए बने नेशनल हाई स्पीड रेलवे कॉरपोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) ने इसको लेकर कार्रवाई तेज कर दी है। 

बता दें कि महाराष्ट्र में सरकार बदलने के बाद गलियारे पर काम तेज हो गया है। पहले मांगी गई निविदाएं वापस ले ली गई थीं और इन्हें फिर से नवीनीकृत किया जा रहा है।  निविदा दस्तावेज के अनुसार टनल बोरिंग मशीन (टीबीएम) और न्यू ऑस्ट्रियन टनलिंग मेथड (एनएटीएम) का उपयोग करके सुरंग का निर्माण किया जाएगा। समुद्र के नीचे सात किलोमीटर लंबी सुरंग देश में समुद्र के नीचे बनने वाली पहली सुरंग होगी।

एनएचएसआरसीएल के प्रवक्ता के अनुसार, सुरंग सिंगल- ट्यूब ट्विन- ट्रैक वाली होगी जिसका व्यास 13.1 मीटर होगा। खंड पर सुरंग स्थान से सटे 37 स्थानों पर 39 उपकरण कक्षों का निर्माण शामिल होगा।  तीन टीबीएम का उपयोग लगभग 16 किलोमीटर सुरंग के हिस्से को बनाने के लिए किया जाएगा और शेष पांच किलोमीटर का निर्माण एनएटीएम के माध्यम से किया जाएगा। यह सुरंग जमीन के नीचे लगभग 25 से 65 मीटर गहरी होगी और सबसे गहरा निर्माण स्थल शिलफाटा के निकट पारसिक पहाड़ी से 114 मीटर नीचे होगा।

निविदा जमा करने की अंतिम तिथि 19 जनवरी, 2023 है। बता दें कि एनएचएसआरसीएल ने पिछले साल नवंबर में परियोजना के लिए भूमिगत सुरंग निर्माण कार्यों के लिए निविदाएं आमंत्रित की थीं। लेकिन इस साल अधिकारियों ने प्रशासनिक कारणों का हवाला देते हुए इसे रद्द कर दिया था।      

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.