Wednesday, Oct 16, 2019
ca teachers and students finish protest committee to be formed to hear demands

CA के शिक्षकों व छात्रों ने खत्म किया प्रदर्शन, मांगों की सुनवाई के लिए बनेगी समिति

  • Updated on 9/27/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पिछले चार दिनों से इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकांटेट ऑफ इंडिया (The Institute of Chartered Accountants of India) के आईटीओ (ITO) स्थित मुख्यालय पर प्रदर्शनकर रहे चार्टेड अकाउंटेंट के छात्रों व शिक्षकों ने देर रात 9 बजे अपने प्रदर्शन को बंद करने की घोषणा कर दी। प्रदर्शनकारियों के एक प्रतिनिधिमंडल को गुरूवार देर शाम आईसीएआई के पदाधिकारियों ने बातचीत के लिए बुलाया था, जिसके बाद आपसी सहमति बनी और स्वतंत्र उच्चस्तरीय कमेटी बनाए जाने का आश्वासन दिए जाने के बाद प्रदर्शन को फिलहाल स्थगित कर दिया गया। हालांकि पूरे दिन छात्रों द्वारा आर्टिकल 39(4) के बदलाव को लेकर जमकर नारेबाजी की गई थी।

Chandrayaan-2 : नासा भी नहीं खोज पाया ISRO का #VikramLander, हुई थी हार्ड लैंडिंग

इस प्रदर्शन की अगुवाई कर रहे आईसीएआई के सदस्य व शिक्षक राजकुमार ने बताया कि 7 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को जिसमें उनके अलावा सीए प्रवीन शर्मा, सीए भंवर बुराना, सीए नीरज अरोड़ा, सीए सचिन गुप्ता, सीए पंकज गर्ग व अन्य शामिल थे। उनकी बैठक रात 9 बजे तक आईसीएआई के उपाध्यक्ष सीए अतुल कुमार गुप्ता व सचिव राकेश सहगल के साथ चली। जिसमें उन्होंने मिनिस्ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर के दिशानिर्देश में स्वतंत्र उच्चस्तरीय कमेटी बनाए जाने की बात कही गई है।

NRC से बाहर हुए लोगों को होगा मतदान का अधिकार- चुनाव आयोग

उन्होंने कहा कि उनका साइलेंट प्रोटेस्ट जारी रहेगा। यदि उनकी जायज मांगों को ड्राफ्ट नहीं किया गया तो सभी सीए की मेंबरशिप वापस कर देंगे। हालांकि उन्होंने कहा कि आईसीएआई द्वारा उन्हें आर्टिकल 39(4) का ड्राफ्ट तैयार करने का कोई समय नहीं दिया गया है लेकिन यदि डेढ़ महीने तक बदलाव नहीं हुआ तो वो दोबारा विरोध करेंगे।

गुजरात के बाजार ने किन्नरों पर लगाया बैन, पीट-पीट कर की थी एक व्यक्ति की हत्या!

पहली बार सामने आए आईसीएआई के अध्यक्ष 
सीए छात्रों द्वारा सोशल मीडिया पर #icaipresidentismissing मुहिम चलाई गई जोकि गुरूवार दोपहर तक नंबर एक पर ट्रैंडिंग करती रही। छात्रों के बढ़ते विरोध-प्रदर्शन को देखकर आईसीएआई की ओर गुरुवार को एक प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता आईसीएआई के अध्यक्ष प्रफुल्ल ने की। इस दौरान उन्होंने कमेटी के गठन की बात कहते हुए कहा कि उत्तर पुस्तिका को अच्छे से जांचे जाने व परीक्षकों को भी ऑनलाइन परीक्षा से गुजरने की बात कही। उन्होंने कहा कि योग्यता परखने के बाद ही परीक्षकों को उत्तरपुस्तिका जांचने दी जाती है। 

पंजाब में PAK की नापाक कोशिश, ड्रोन के जरिए गिराए हथियार, सेना रेड अलर्ट पर

कौन-कौन रहेगा कमेटी में शामिल
मिनिस्ट्री ऑफ कॉरपोरेट अफेयर के दिशानिर्देश में बनाई जाने वाली स्वतंत्र उच्चस्तरीय कमेटी में आईसीएआई काउंसिल का कोई सदस्य शामिल नहीं होगा। इसमें 2 पूर्व आईसीएआई अध्यक्ष, एक सेवानिवृत्त सुप्रीमकोर्ट के जज, एक प्रशासनिक अधिकारी व एक शिक्षा जगत का कोई विशेषज्ञ शामिल होगा।

comments

.
.
.
.
.