Friday, Jul 01, 2022
-->
center- we received threats from the opposition on the bill musrnt

संसद की लड़ाई पहुंची सड़क तक, केंद्र का आरोप- बिल पर हमें विपक्ष से मिली धमकी

  • Updated on 8/12/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। राज्यसभा में कल हुए हंगामे को लेकर राजनीतिक संग्राम छिड़ा हुआ है। जहां एक तरफ आज विपक्षी पार्टियों ने कल के हंगामे के विरोध में मार्च निकाला तो वहीं अब केंद्र की मोदी सरकार के सात मंत्रियों ने इस मुद्दे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

इन मंत्रियों में पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान, प्रह्लाद जोशी, अनुराग ठाकुर, भूपेंद्र यादव, अर्जुन राम मेघवाल और वी मुरलीधरण शामिल थे।

संसदीय मामलों के मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा, 'कांग्रेस व उनके सहयोगी दलों ने पहले ही फैसला कर लिया था कि संसद को नहीं चलने देंगे। हम राज्यसभा अध्यक्ष से नियम तोड़ने वाले विपक्षी सांसदों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग करते हैं।' प्रह्लाद जोशी ने आगे कहा, 'साढ़े सात साल भी वो (विपक्ष) जनादेश स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं। खासकर कांग्रेस को ऐसा लगता है कि ये हमारी सीट थी और इसे मोदी जी ने आकर छीन लिया। उनकी ​इसी मानसिकता की वजह से ऐसी चीजें हो रही हैं।'

इससे पहले गुरुवार को संसद भवन से विजय चौक की ओर मार्च के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोला और आरोप लगाया कि पहली बार राज्यसभा में सांसदों की पिटाई की गई और विपक्षी सांसदों के साथ धक्का-मुक्की की गई। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.