Monday, Dec 06, 2021
-->
congress annoyed by tmc''''''''s ''''''''burglary'''''''', called the sabotage of leaders a ''''''''conspiracy''''''''

TMC की ‘सेंधमारी’ से कांग्रेस हुई नाराज, नेताओं के तोडफ़ोड़ को ‘षड्यंत्र’ बताया

  • Updated on 11/26/2021

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। मेघालय में कांग्रेस के 17 विधायकों में से पूर्व मुख्यमंत्री समेत 12 विधायकों के टीएमसी में शामिल होने के बाद कांग्रेस और टीएमसी में कड़वाहट बढ़ गई है। कांग्रेस ने इसे षड्यंत्र बताते हुए टीएमसी पर भाजपा को मजबूत करने का आरोप लगाया।

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनेगा उत्तर भारत का लॉजिस्टिक गेटवे
मेघालय से पहले गोवा में भी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री लुईजिन्हो फालेरियो समेत कई विधायक और नेताओं ने टीएमसी ज्वाइन की। वहीं महिला कांग्रेस अध्यक्ष रही सुष्मिता देव भी पद पर रहते हुए टीएमसी में चली गईं। दो दिन पहले दिल्ली में कीर्ति आजाद और हरियाणा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक तंवर ने भी टीएमसी ज्वाइन की थी।

इसी तरह एक के बाद एक कांग्रेस पृष्ठभूमि वाले नेताओं के टीएमसी में शामिल होने को कांग्रेस ने एक षड्यंत्र करार दिया और आरोप लगाया कि ऐसी पार्टियों के प्रतिनिधि हैं जिनका मकसद देश की सबसे पुरानी पार्टी को कमजोर एवं केंद्र की सत्तारूढ़ पार्टी को मजबूत करना है।

दिल्ली में निर्माण गतिविधियों पर फिर से रोक, प्रभावित श्रमिकों को मिलेगी वित्तीय सहायता: गोपाल राय
कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने वीरवार को यहां एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि चीन का मुद्दा हो, कृषि कानून का मुद्दा हो, महंगाई और बेरोजगारी का मुद्दा हो, इन पर लड़ाई कौन लड़ रहा है? कांग्रेस, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी। अगर कोई चाहता है कि इन मुद्दों पर सवाल नहीं पूछे जाएं और भाजपा को कटघरे में नहीं खड़ा किया जाए, तो उनके इस षड्यंत्र का एक ही मकसद है कि कांग्रेस को कमजोर करो और भाजपा को मजबूत करो।

तृणमूल यही कर रही है। वल्लभ ने आरोप लगाया कि जो लोग यह काम कर रहे हैं कि उससे सिर्फ भाजपा का फायदा हो रहा है। जो भी क्षेत्रीय दल ऐसा कर रहे हैं वो भाजपा के प्रॉक्सी (प्रतिनिधि) हैं, भाजपा के साथ खड़े हुए हैं। एक सवाल पर उन्होंने कहा कि जिनमें वैचारिक प्रतिबद्धता की कमी है, वही कांग्रेस छोडक़र जा रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर दिल्ली-NCR में निर्माण गतिविधियों पर फिर लगाई रोक
इसके पहले जेवर हवाई अड्डे से जुड़े एक सवाल पर कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि मैं तो सिर्फ एक ही बात सरकार से चाहता हूं कि प्रधानमंत्री मोदी जी और उनके नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जी, दोनों गंगा मैया के पानी को हाथ में रखें और बोलें कि इस हवाई अड्डे को हम नहीं बेचेंगे।

‘जिन्ना के अनुयायियों’ से जुड़े मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बयान पर पलटवार करते हुए गौरव वल्लभ ने कहा कि आज तक हिंदुस्तान का कौन सा नेता जिन्ना की मजार पर गया? मैंने तो एक ही व्यक्ति को देखा और वह हैं भाजपा के संस्थापक, मार्गदर्शक मंडल के वरिष्ठ सदस्य लालकृष्ण आडवाणी जी। वह वहां गए थे और लिखा था जिन्ना बहुत बड़े धर्मनिरपेक्ष थे। जसवंत सिंह ने अपनी किताब में लिखा था कि जिन्ना हिंदू-मुस्लिम एकता के प्रतीक थे...मैं तो यह कहूंगा कि योगी जी जिन्ना के बारे में आडवाणी जी से परामर्श लें।

अखिलेश यादव ने एयरपोर्ट बेचने और बनाने पर उठाए सवाल, निशाने पर मोदी सरकार
कांग्रेस प्रवक्ता ने कोरोना से मरने वालों को लेकर एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि हमने दो मांग की है। पहली यह कि एक आयोग बनाकर पता किए जाए कि कोरोना से कितने लोगों की मौत हुई। मृत्यु का सही आंकड़ा सामने आना चाहिए। दूसरा, सरकार को कोविड के कारण जान गंवाने वालों के परिवार को चार-चार लाख रुपये देना चाहिए। इसके लिए कोविड मुआवजा कोष बनाया जाए।
Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.