Monday, Aug 08, 2022
-->
congress-asked-how-did-modi-become-prime-minister-if-democracy-is-not-strengthened

पीएम के बयान पर कांग्रेस का पलटवार, पूछा-लोकतंत्र मजबूत नहीं किया गया तो मोदी प्रधानमंत्री कैसे बनेे

  • Updated on 11/26/2021

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। ‘लोकतंत्र’ को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी पर कांग्रेस ने पलटवार किया है। मोदी को निशाने पर लेते हुए कांग्रेस ने सवाल किया कि अगर लोकतंत्र मजबूत नहीं किया गया होता तो 2014 में मोदी जी प्रधानमंत्री कैसे बन पाते? मोदी ने शुक्रवार को संसद में संविधान दिवस समारोह में कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों पर परोक्ष रूप से हमला करते हुए पारिवारिक पाॢटयों को संविधान के प्रति समर्पित राजनीतिक दलों के लिए ङ्क्षचता का विषय बताया और दावा किया कि लोकतांत्रिक चरित्र खो चुके दल, लोकतंत्र की रक्षा नहीं कर सकते हैं।

संविधान दिवस पर PM मोदी ने विपक्ष पर किया जमकर प्रहार, बताया पारिवारिक पार्टियां 
पार्टी के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने शुक्रवार को यहां एक प्रेस कान्फ्रेंस में पीएम के बयान को औचित्यहीन बताते हुए कहा कि 1947 से 2014 तक बीते 70 वर्षों में लोकतंत्र कमजोर नहीं, मजबूत होता रहा। उन्होंने सवाल किया कि अगर लोकतंत्र को संकट था और लोकतंत्र का सम्मान नहीं किया गया तो फिर 2014 में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री कैसे बने? उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए हो सका, क्योंकि संविधान, प्रजातंत्र और कानून का सम्मान किया गया था। लेकिन आज नया इतिहास लिखने की कोशिश हो रही है। हम ऐसा नहीं होने देंगे। हम जनता को बार-बार सही इतिहास के बारे में याद दिलाते रहेंगे।

TMC की ‘सेंधमारी’ से कांग्रेस हुई नाराज, नेताओं के तोडफ़ोड़ को ‘षड्यंत्र’ बताया
शर्मा ने आरोप लगाया कि यह सरकार संवैधानिक संस्थाओं और संविधान की मूल भावना पर आघात कर रही है। सरकार प्रजातंत्र और संविधान के जश्न के आयोजन में विपक्ष का सम्मान नहीं करती और संसदीय लोकतंत्र का अपमान करती है। इसी कारण कई विपक्षी दलों ने इस कार्यक्रम से अलग रहने का फैसला किया। उन्होंने कहा कि हम संविधान और राष्ट्रपति का सम्मान करते हैं। लेकिन अगर विपक्ष के नेताओं को प्रजातंत्र या संविधान के जश्न में शामिल नहीं किया जाएगा और सिर्फ दर्शक की तरह बुलाया जाएगा तो यह हमें स्वीकार नहीं है। इसके पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक ट्विट में संविधान की प्रस्तावना साझा करते हुए लिखा- ‘‘न्याय व अधिकार सबके लिए एक समान होने चाहिए, ताकि संविधान सिर्फ कागज न बन जाए- ये हम सबकी जिम्मेदारी है। देश के संविधान दिवस पर सभी को शुभकामनाएं।’’

15 विपक्षी दलों ने संविधान दिवस समारोह का बहिष्कार किया 
कांग्रेस समेत 15 विपक्षी दल शुक्रवार को संसद के केंद्रीय कक्ष में आयोजित संविधान दिवस समारोह में शामिल नहीं हुए और सरकार पर संविधान की मूल भावना पर आघात करने और अधिनायकवादी तरीके से कामकाज करने का आरोप लगाया। इन दलों में कांग्रेस के अलावा समाजवादी पार्टी, आम आदमी पार्टी, भाकपा, माकपा, द्रमुक, अकाली दल, शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, तृणमूल कांग्रेस, राजद, आरएसपी, केरल कांग्रेस (एम), आईयूएमएल और एआईएमआईएम शामिल थे। जबकि भाजपा एवं सहयोगी दलों के साथ ही, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी, तेलंगाना राष्ट्र समिति, तेलुगू देशम पार्टी, बीजू जनता दल और बसपा के सदस्य भी कार्यक्रम में शामिल हुए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.