Wednesday, Oct 05, 2022
-->
congress-raises-questions-on-the-release-of-convicts-in-the-bilkis-bano-case

बिलकिस बानो मामले के दोषियों को रिहा करने पर कांग्रेस ने उठाए सवाल

  • Updated on 8/16/2022

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। बिलकिस बानो बलात्कार मामले के 11 दोषियों को गुजरात सरकार की ओर से रिहा किए जाने पर कांग्रेस ने सवाल उठाया है। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री से पूछा कि क्या लाल किले की प्राचीर से नारी शक्ति के विषय में की गई उनकी बात सही है या फिर गुजरात की भाजपा सरकार का फैसला?

बिलकिस बानो मामले के दोषियों को माफी छूट, गुजरात सरकार ने दी सफाई
गुजरात सरकार की माफी नीति के तहत बिलकिस बानो मामले में उम्र कैद की सजा काट रहे 11 दोषियों को सोमवार को गोधरा उप-कारागार से रिहा कर दिया गया। कांग्रेस के मीडिया एवं प्रचार प्रमुख पवन खेड़ा ने मंगलवार को यहां एक प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि कांग्रेस पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि पर प्रधानमंत्री मोदी को एक बार फिर से ‘राजधर्म’ की याद दिलाती है। उन्होंने कहा कि यह कोई इकलौता मामला नहीं है। ऐसे कई मामले हैं जिनसे भाजपा की मानसिकता दिखाई देती है। इससे पहले कठुआ और उन्नाव के मामले में ऐसा हुआ जो भारत की राजनीति के लिए शर्मिंदगी के विषय थे। पहली बार ऐसा हुआ कि एक राजनीतिक दल के लोगों ने बलात्कारियों के समर्थन में रैली निकाली और नारे लगाए। 

भ्रष्टाचार, परिवार की बात कर PM ने अपने ही मंत्रियों, उनके पुत्रों पर हमला किया: कांग्रेस
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त को नारी शक्ति के बारे में अच्छी-अच्छी बातें कीं। इसके कुछ घंटों बाद गुजरात सरकार ने ऐसा निर्णय लिया जो अप्रत्याशित था और जो कभी नहीं हुआ। बलात्कार के अभियुक्तों को रिहा कर दिया गया। खेड़ा ने सवाल किया कि क्या बलात्कार उस श्रेणी का अपराध नहीं है जिसमें कड़ी से कड़ी सजा मिले? आज फिर यह देखा गया कि इन लोगों को सम्मानित किया जा रहा है। क्या यह है अमृत महोत्सव? खेड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री बताएं कि जो उन्होंने लाल किले की प्राचीर से कहा, वह सही है? या फिर गुजरात सरकार ने जो किया, वह सही है? 

अंबानी परिवार को धमकी: मुंबई की अदालत ने आरोपी को पुलिस हिरासत में भेजा
मुंबई में सीबीआई की एक विशेष अदालत ने 11 दोषियों को बिलकिस बानो के साथ सामूहिक बलात्कार और उनके परिवार के सात सदस्यों की हत्या करने के जुर्म में 21 जनवरी 2008 को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। बाद में बंबई उच्च न्यायालय ने उनकी दोषसिद्धि को बरकरार रखा था और ये सभी गोधरा उप-कारागार में उम्र कैद की सजा काट रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.