Thursday, Mar 21, 2019

मनमोहन सिंह को अमृतसर से चुनाव लड़ाने की तैयारी में कांग्रेस! दुविधा में BJP

  • Updated on 3/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया। लोकसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही महत्वपूर्ण सीटों और उम्मीदवारों की चर्चा तेज हो चली है। इस ऐलान के बाद सभी राजनीतिक पार्टियां प्रत्याशियों के चयन, सीट बंटवारे को लेकर सक्रिय हो गई हैं।

खबर है कि कांग्रेस अमृतसर लोकसभा सीट के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के नाम पर विचार कर रही है। लेकिन, डॉक्टर सिंह ने चुनाव लड़ने से शायद इनकार कर दिया है। साल 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद से मनमोहन सिंह राजनीति में सक्रिय नहीं थे। हालांकि, अब वे दोबारा राजनीतिक सभाओं में नजर आते हैं। मनमोहन सिंह ने 10 साल गठबंधन में ही सरकार चलाई है। ऐसे में माना जा रहा है कि उनके चुनाव लड़ने से कांग्रेस का महागठबंधन की पार्टियों से तालमेल बेहतर हो सकता है।

वहीं यह खबर सुनकर पंजाब बीजेपी के हॉथ पॉव फूल रहे हैं। अमृतसर के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनमोहन सिंह का नाम सामने आने से पंजाब भाजपा दुविधा में है। खबर हे कि भाजपा अपने पैनल लिस्ट को रिव्यू कर रही है। यहां तक कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष श्वेत मलिक ने मनमोहन सिंह के अमृतसर के लिए योगदान पर सवाल कर दिए।

इससे पहले रविवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, कांग्रेस प्रदेशअध्यक्ष सुनील जाखड़ और राज्य मामलों की इंचार्ज आशा कुमार ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से अमृतसर से लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए कहा।

हालांकि, तीनों नेताओं के बार-बार आग्रह के बावजूद भी मनमोहन सिंह ने तुरंत हामी नहीं भरी थी। उन्होंने प्रतिनिधिमंडल को बताया था कि वह चुनाव लड़ने के लिए बहुत बूढ़े हो चुके हैं। अमरिंदर सिंह ने यहां तक कहा कि केवल नामांकन के लिए आपको एक बार अमृतर आना होगा, बांकी सारा अभियान कांग्रेस पार्टी के अन्य नेता और वो खुद देखेंगे। लेकिन, सिंह ने शायद साफ कह दिया कि वो चुनाव लड़ने में सक्षम नहीं हैं।

बता दें कि पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान इसी तरह अकाली दल के प्रमुख सुखबीर बादल ने अरुण जेटली को अमृतसर आकर नामांकन भरने के लिए और जीत सुनिश्चित करने के लिए कहा था। ऐसा लग रहा है कि पंजाब कांग्रेस के नेता भी इसी तरह का आश्वासन मनमोहन सिंह को दे रहे हैं।

'मनमोहन सिंह नाम ही काफी है'

कांग्रेस की जिलाध्यक्ष जतिंदर सोनिया ने कहा कि मनमोहन का नाम पूरे देश में विश्वसनीय है और वह पूरे भारत से जुड़े हुए हैं। उनका नाम और उनका काम लोगों को उनके लिए वोट करने को काफी है। यह अमृतसर के लोगों के लिए गर्व का विषय होगा।

प्रसिद्ध अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह का परिवार विभाजन के समय पाकिस्तान के गाह गांव से अमृतसर में आकर बस गया था। उन्होंने यहां के हिंदू कॉलेज से पढ़ाई की और उनकी पार्टी इस बात को बखूबी जानती है कि ऐतिहासिक शहर अमृतसर से ऐसे प्रतिष्ठित सिख उम्मीदवार को चुनावी मैदान में उतारना प्रतीकात्मक रूप से मायने रखता है। गौरतलब है कि मनमोहन सिंह वर्तमान में असम से राज्यसभा सांसद हैं।

अमृतसर में कांग्रेस के पास मनमोहन सिंह से मजबूत उम्मीदवार नहीं

कैप्टन अमरिंदर सिंह के सीट छोड़ने के बाद गुरमीत सिंह औजला अमृतसर से चुनाव जीते। लोकसभा चुनाव के लिए नवजोत कौर सिद्धू ने चंडीगढ़ से टिकट पर दावा किया है। ऐसे में कांग्रेस के पास अमृतसर से मजबूत दावेदार नहीं है। इस सीट से भाजपा के पास भी कोई बड़ा चेहरा नहीं है। अरुण जेटली को भी यहां हार मिली थी।

खबरों के मुताबिक, पार्टी यहां से केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी को उतारने पर विचार कर रही है। अमृतसर सीट कांग्रेस और अकाली- भाजपा के लिए हमेशा नाक का सवाल रही है। ऐसे में कांग्रेस यहां हर हाल में जीत दर्ज करना चाहती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.