Saturday, Sep 30, 2023
-->
congress-s-trouble-increased-due-to-remarks-made-on-bhagvad-gita-before-gujarat-elections

इस बार पाटिल बने अय्यर, गुजरात चुनाव से पहले भगवद् गीता पर की गई टिप्पणी से कांग्रेस की मुश्किल बढ़ी

  • Updated on 10/21/2022

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। गुजरात विधानसभा चुनाव जब भी आता है, कांग्रेस अपने किसी न किसी नेता के बयान से मुश्किलों में फंस जाती है। पिछली बार मणि शंकर अय्यर के ‘नीच’ वाले बयान ने पार्टी की परेशानी बढ़ा दी थी। अब, शिवराज पाटिल की भगवद् गीता को लेकर की गई टिप्पणी ने असहज स्थिति में फंसा दिया है। कांग्रेस ने पाटिल के बयान से खुद को अलग तो कर लिया है, लेकिन भाजपा ने मौके को लपक लिया है।

कांग्रेस अध्यक्ष खरगे के सिर सजा कांटों भरा ताज, सामने खड़ी हैं ये चुनौतियां
पूर्व गृह मंत्री शिवराज पाटिल ने वीरवार को दावा किया कि जिहाद की अवधारणा न केवल इस्लाम में, बल्कि भगवद् गीता और ईसाई धर्म में भी थी। उन्होंने कांग्रेस की वरिष्ठ नेता मोहसिना किदवई की एक पुस्तक के विमोचन के मौके पर यह टिप्पणी की। कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेता शिवराज पाटिल की टिप्पणी को अस्वीकार्य करार देते हुए शुक्रवार को कहा कि भगवद् गीता भारतीय सभ्यता का मौलिक स्तम्भ है। पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट किया, ‘मेरे वरिष्ठ सहयोगी शिवराज पाटिल ने भगवद् गीता पर कथित तौर पर कुछ टिप्पणी की जो अस्वीकार्य है। बाद में उन्होंने स्पष्टीकरण दिया। कांग्रेस का रुख स्पष्ट है कि भगवद् गीता भारतीय सभ्यता का मौलिक स्तम्भ है।’ 

ब्रिटिश प्रधानमंत्री की दौड़ में फिर बोरिस और ऋषि सुनक

जयराम ने पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की पुस्तक डिस्कवरी ऑफ  इंडिया का एक अंश भी साझा किया जिसमें कहा गया है कि भगवद् गीता का संदेश सार्वभौमिक है और सभी के लिए है। रमेश ने कहा कि मैंने किशोरावस्था में ही भगवद गीता का अध्ययन किया और सांस्कृतिक एवं दार्शनिक मूलग्रंथ के रूप में इसके प्रति मेरा बहुत आकर्षण रहा है। इसका युगों से भारतीय सभ्यता पर व्यापक असर रहा है। मैंने अपनी किताब ‘द लाइट ऑफ एशिया’ में भी इसके बारे में लिखा है।

हेट स्पीच को लेकर सुप्रीम कोर्ट सख्त, सरकारों को दी कड़ी चेतावनी
यह महज इत्तेफाक ही कहें कि 2017 के गुजरात चुनाव के वक्त ही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘नीच व्यक्ति’ कहा था, जिसे पीएम मोदी ने गुजराती अस्मिता से जोड़ कर चुनाव प्रचार में ऐसी हवा बनाई कि भाजपा के हाथ से जाती सत्ता बच गई और तीसरी बार गुजरात में भाजपा की सरकार बनी। हालांकि, भाजपा के वोट प्रतिशत और सीटों में उसके पहले के चुनावों की अपेक्षा कमी जरूर आई थी। इस बार भी शिवराज पाटिल की टिप्पणी ऐसे वक्त में आई है, जब गुजरात चुनाव की तिथियां किसी भी दिन घोषित होने को है।

केदारनाथ में खास ड्रेस पहन PM मोदी ने पूरा किया एक वादा, जानिए हिमाचल से कनेक्शन
भाजपा ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए इसे हिंदुत्व को कलंकित करने का एक और प्रयास बताया। भाजपा प्रवक्ता, सांसद सुधांशु त्रिवेदी ने मांग की है कि कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे या इसकी नेता सोनिया गांधी को पाटिल की टिप्पणी पर जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने गीता पर अपनी टीका में इसे ‘अनाशक्ति योग’ का स्रोत बताया था, जबकि बाल गंगाधर तिलक ने गीता के अपने अध्ययन से ‘कर्म योग’ का दर्शन दिया। त्रिवेदी ने कहा कि कांग्रेस के नेता इसमें अब जिहाद देख रहे हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.