Sunday, Dec 04, 2022
-->
corona aiims and icmr opt out of plasma therapy new guidelines released anjsnt

कोरोना: Aiims और ICMR ने प्लाज्मा थेरेपी को इलाज से किया बाहर, जारी की नई गाइडलाइन

  • Updated on 5/18/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस के इलाज में सबसे ज्यादा इस्तेमाल हो रही प्लाजमा थेरेपी को लेकर आईसीएमआर और एम्स ने एक बड़ा फैसला लिया है।अपने इस फैसले के दौरान दोनों ने नई गाइडलाइन जारी की है।

क्या है गाइडलाइन
सरकार ने सोमवार को कोविड-19 उपचार के लिए नैदानिक परामर्श में संशोधन किया और मरीजों के उपचार के लिए प्लाज्मा थेरेपी के उपयोग को नैदानिक प्रबंधन दिशा-निर्देश से हटा दिया।सरकार ने पाया कि कोविड-19 मरीजों के उपचार में प्लाज्मा थेरेपी गंभीर बीमारी को दूर करने और मौत के मामलों को कम करने में फायदेमंद साबित नहीं हुई।

मोदी ने कोविड-19 के खिलाफ जंग में योगदान दे रहे चिकित्सकों से किया संवाद 

पिछले सप्ताह हुए थे सहमत
 कोविड-19 के लिए गठित राष्ट्रीय कार्य बल-आईसीएमआर की पिछली सप्ताह हुई बैठक के दौरान सभी सदस्य प्लाज्मा थेरेपी को नैदानिक प्रबंधन दिशा-निर्देश से हटाने पर सहमत हुए थे, जिसके बाद सरकार का यह निर्णय सामने आया है। प्लाज्मा थेरेपी को कोविड-19 मरीजों के उपचार में प्रभावी नहीं पाया गया है।

मंडी में आपूर्ति सामान्य, प्रशासन कोविड को लेकर सख्त

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के एक अधिकारी ने कहा कि कार्य बल ने व्यस्क कोविड-19 मरीजों के लिए उपचार संबंधी नैदानिक परामर्श में संशोधन करते हुए प्लाज्मा थेरेपी को हटा दिया।उल्लेखनीय है कि कुछ चिकित्सा विशेषज्ञों और वैज्ञानिकों ने प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के. विजयराघवन को देश में कोविड-19 उपचार के लिए प्लाज्मा थेरेपी के उपयोग को तर्कहीन और गैर-वैज्ञानिक उपयोग करार देते हुए आगाह किया था।

comments

.
.
.
.
.