Sunday, Apr 11, 2021
-->
corona-vaccine-question-answers-know-all-about-vaccination-drive-prsgnt

Corona वैक्सीन कोविशील्ड को मिली मंजूरी, क्या होगी डोज, कीमत, जानें हर सवाल का जवाब...

  • Updated on 1/2/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) की कोरोना वायरस (COVID-19) पर एक विशेषज्ञ समिति ने ऑक्सफोर्ड (Oxford) के कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। इस वैक्सीन को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया बना रहा है। पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने कोविशील्ड के उत्पादन के लिए एस्ट्रेजेनेका के साथ करार किया है।

ज्ञात है कि एसआईआई दुनिया की सबसे बड़ी टीका निर्माता कंपनी है। ब्रिटेन की मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (MHRA) ने ऑक्सफोर्ड यूनिर्विसटी में वैज्ञानिकों द्वारा विकसित तथा एस्ट्रेजेनेका द्वारा निर्मित वैक्सीन को मंजूरी दे दी थी।

दिल्ली: आज कोरोना वैक्सीनेशन के ड्राइ-रन में भाग लेंगे सत्येंद्र जैन, जानें तैयारी

यहां से मिलेगी पूरी जानकारी 
तैयार वैक्सीन विभिन्न स्तर को पार कर अब अपने फाइनल स्टेज पर है और भारत सरकार जल्द ही इस वैक्सीन को अनुमति दे सकती है। वैक्सीन से जुड़ी सम्पूर्ण और पूर्ण जानकारी के लिए www.mohfw.gov.in पर विजिट कर सकते हैं। 

क्या कहते हैं जानकर 
जानकारों की माने तो सुरक्षा के लिहाज से कोविशील्ड ने अपेक्षित प्रतिकूल स्थितियों में अच्छा प्रदर्शन किया। अधिकतर अपेक्षित प्रतिक्रियाएं गंभीरता के लिहाज से बहुत मामूली थीं और उन्हें सुलझा लिया गया तथा कोई अन्य लक्षण नहीं दिखाई दिये। इसलिए कोविशील्ड सुरक्षित है और लक्षित जनसंख्या पर कोविड-19 की रोकथाम के लिए इसका प्रभावी तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि हल्का बुखार, गले में खराश या फिर हल्का सिरदर्द हो सकता है।

मोदी सरकार ने की कोरोना टीकाकरण पूर्वाभ्यास की तैयारियों की समीक्षा

इन लोगों को दी जाएगी वैक्सीन 
वहीँ, बताया जा रहा है कि शुरूआत में देश के 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जाएगी। इसके लिए सरकार 70 हजार टीकाकर्मी और 30,000 निजी टीकाकर्मियों की सहायता लेगी। साथ ही कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए हेल्थ केयर वर्कर का पंजीकरण शुरू किया गया है। कई पंजीकृत अस्पताल और नर्सिंग होम ने अपने मानव संसाधन संबंधी पूरा ब्योरा दिल्ली सरकार के परिवार कल्याण निदेशालय को भेज दिया है।

सरकार पर है पूरा जिम्मा 
कोरोना की वैक्सीन का पूरा जिम्मा भारत में सरकार पर है। इसलिए इसकी कीमत यहां कम रहेगी। क्योंकि सरकार इसमें खुद अपनी तरफ से भी भुगतान करने वाली है। वहीं अगर ऐसा नहीं होता तो भारत में इसकी कीमत काफी ज्यादा बढ़ सकती थी।

कोरोना वैक्सीन हलाल या हराम पर बहस तेज, मौलवियों ने WHO से पूछा आखिर वैक्सीन में है क्या?

ये होगी कीमत 
सरकार की तरफ से स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी दी है कि कोरोना की वैक्सीन की कीमत भारत में 600 रुपए से अधिक नहीं होगी। अगर किसी कंपनी का टीका बाजार में इससे महंगा मिलेगा तो भारत सरकार उसके दाम तय करेगी और उसके बाद ही वह टीका बाजार में बेचा जा सकता है। हालांकि पहले इसकी कीमत 400 तक बताई गई थी। जबकि सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने बताया कि उनके इंस्टीट्यूट ने वैक्सीन के लिए वैएक डोज की कीमत लगभग 3 अमेरिकी डॉलर रही है जो निजी बाजार के लिए लगभग 700 से 800 रुपए की होगी।

ड्राइ-रन का दौरा करने जीटीबी अस्पताल पहुंचे केंद्रीय मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन 

कितने तापमान पर और कितनी होगी वैक्सीन की डोज 
सीरम इंस्टीट्यूट का दावा है कि वैक्सीन से 2 से 8 डिग्री के तापमान में रखी जा सकती है। इसे फ्रिज में रखना होगा और अगर ये फ्रिज के बाहर रखी गई तो 10 दिन तक खराब नहीं होगी लेकिन इसे 2 से 8 डिग्री तक में ही रखना होगा। वहीँ, अभी सीरम इंस्टीट्यूट के पास 50 मिलियन डोज तैयार हैं जो कि कुल 25 मिलियन लोगों को दी जा सकती हैं। 

CBSE Board Exam 2021 की घोषणा से शिक्षकों और छात्रों को मिली राहत

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.