Saturday, Jan 29, 2022
-->
Court gives big verdict Sachin waje increased custody till 7 April ANJSNT

सचिन वाझे को लेकर कोर्ट ने सुनाया बड़ा फैसला- 7 अप्रैल तक के लिए बढ़ाई हिरासत

  • Updated on 4/3/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। मनसुख हिरेन मर्डर केस और एंटीलिया केस का मुख्य आरोपी सचिन वाझे को लेकर एनआईए की कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाया है। एनआईए कोर्ट ने मुंबई पुलिस के पूर्व अधिकारी सचिन वाझे को 7 अप्रैल तक के लिए NIA की कस्टडी में भेज दिया है।जिससे उससे अधिक जानकारी निकाली जा सके।

आपको बता दें कि सचिन वाझे पर NIA ने कई धाराए लगाई हैं। जिसे देखते हुए सचिन वाझे के वकील ने एनआईए कोर्ट में एक अर्जी डाली है कि सचिन के सीने में दर्द रहता है और उसके हार्ट में दो ब्लॉकेज भी है। इसलिए उसे डॉक्टर से मिलने दिया जाए।

NIA ने मिस्ट्री गर्ल को किया गिरफ्तार
 एंटीलिया केस की जांच कर रही एनआईए ने उस मिस्ट्री गर्ल की  गुत्थी को सुलाझाना शुरु कर दिया है। जो निलंबित अधिकारी सचिन वाझे के साथ होटल में नजर आई थी। इस केस की जांच कर रही एनआईए ने मुंबई में कई जगह पर छापेमारी की। इसी दौरान जब वो गुरुवार को टीम ने ठाणे के एक फ्लैट की तलाशी ली। उस दौरान उन्होंने वहां से एक महिला को हिरासत में लिया। बताया जा रहा है कि हिरासत में ली गई महिला सचिन वाझे की करीबी सहयोगी है। 

 हुई पूछताछ
 एक मीडिया हाउस की रिपोर्ट के मुताबिक महिला को हिरासत में लेने के बाद एनआईए की टीम उससे सचिन वाझे को लेकर सवाल जवाब कर रही है। एक अधिकारी ने बताया कि वो महिला सचिन के साथ काम करती थी। उसका काम उसके काले पैसे को सफेद करना था। 

J-K: पुलवामा में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी किया ढेर, मुठभेड़ जारी

वाझे के करीबी अफसरों को क्राइम ब्रांच से हटाया
बता दें कि महाराष्ट्र सरकार ने अपने अधिकारियों के पोस्टिंग में फेरबदल की है। सरकार ने मुंबई पुलिस में बड़ा फेरबदल करते हुए 86 अफसरों और कर्मचारियों का ट्रांसफर कर दिया है। जानकारी के मुताबिक इनमें 65 अधिकारी मुंबई क्राइम ब्रांच के हैं, जिसमें एंटीलिया मामले में विवादित अफसर सचिन वाझे की तैनाती थी। एनआईए द्वारा सचिन वाझे की गिरफ्तारी के बाद से माना जा रहा है कि सरकार ने उसके करीबी अफसरों को क्राइम ब्रांच से हटाया है। सरकार ने जिन अधिकारियों का ट्रांसफर किया है, उनमें पीआई, एपीआई और पीएसआई लेवल के अफसर शामिल हैं।

 

 

comments

.
.
.
.
.