Thursday, Oct 28, 2021
-->
crude-oil-prices-in-2016-and-a--decline-of-27-percent

अभी और रुलाएगा कच्चा तेल 27% और टूटेगा : विश्व बैंक

  • Updated on 1/28/2016

 वाशिंगटन, (एजेंसी)। विश्व बैंक ने अपनी एक ताजा रिपोर्ट में कहा है कि गत वर्ष यानी कि 2015 में 47 प्रतिशत टूटने के बाद इस वर्ष 2016 में कच्चे तेल के दाम में 27 प्रतिशत की और गिरावट दर्ज की जाएगी। हालांकि उसने वर्ष के अंत तक कीमतों में सुधार शुरू हो जाने की बात भी कही है।

कच्चे तेल में गिरावट से सरकार मालामाल, जनता का बुरा हाल

विश्व बैंक ने जारी रिपोर्ट ‘कमोडिटी मार्कीट आऊटलुक’ में कहा, ”वर्ष 2015 में कच्चे तेल की औसत कीमत 50.8 डॉलर प्रति बैरल रही जिसके इस वर्ष 37 डॉलर प्रति बैरल पर आ जाने की उम्मीद है।

उल्लेखनीय है कि वर्ष के पहले महीने में ही कच्चे तेल पर जबरदस्त दबाव रहा है और यह 30 डॉलर प्रति बैरल या उसके नीचे बना हुआ है। वहीं गैर-तेल उत्पादों के दाम में 3.7 प्रतिशत व धातुओं में गत वर्ष 21 प्रतिशत की गिरावट के बाद इस वर्ष 10 प्रतिशत कमी की आशंका है।

सुधार की उम्मीद के कारण

रिपोर्ट के अनुसार वर्ष गुजरने के साथ-साथ वर्तमान निचले स्तर से कीमतों में धीरे-धीरे सुधार की उम्मीद है जिसके कई कारण हैं।
द्य वर्ष 2016 की शुरूआत में कच्चे तेल में आई तेज गिरावट मांग और आपूर्ति के मूलभूत कारकों द्वारा जनित नहीं दिखती इसलिए इसमें सुधार की संभावना है।

इरान से बैन हटने के बाद कच्चे तेल ने मचाया कोहराम

ज्यादा लागत पर कच्चे तेल का उत्पादन करने वाले देश उत्पादन में कटौती करेंगे और इससे बाजार में आने वाली अतिरिक्त आपूर्ति का असर समाप्त हो जाएगा।

  • वैश्विक अर्थव्यवस्था में मामूली सुधार के कारण कच्चे तेल की मांग बढ़ेगी।
  •  विश्व बैंक ने कहा है कि वर्ष के अंत तक कच्चे तेल की कीमतों में होने वाला सुधार वर्ष 2008, 1998 या 1986 की गत गिरावटों के बाद आए सुधार की तुलना में धीमी गति से होगा। उसने बताया कि 2017 में इसकी औसत कीमत 48 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच जाएगी जबकि इसके अगले वर्ष यह 51.4 डॉलर प्रति बैरल होगी।
comments

.
.
.
.
.