Monday, Nov 28, 2022
-->
Dearness Allowance of Delhi Gurdwara Committee employees increased by 12 percent

दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी के कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 12 फीसदी बढ़ाया

  • Updated on 9/28/2022

 नई दिल्ली/ सुनील पाण्डेय : दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने सभी कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 12 प्रतिशत की वृद्धि करने की घोषणा की है। गुरुद्वारा कमेटी की हुई बैठक में यह फैसला लिया गया। महंगाई भत्ते में 12 प्रतिशत की अतिरिक्त वृद्धि करने, कमेटी स्टाफ सदस्य की मौत होने पर एक दिन की तनख्वाह स्टाफ द्वारा देने, समूह कर्मचारियों के लिए एक मेडिक्लेम नीति बनाने, स्टाफ सदस्यों के लिए वर्दी तथा नियमित होने के बाद नौकरी पूर्ण रूप से स्थायी किए जाने की अवधि 2 वर्ष करने का भी फैसला हुआ है।
  कमेटी के इस फैसले के बाद कर्मचारियों ने बुधवार को गुरुद्वारा रकाब गंज साहिब के भाई लक्खी शाह वणजारा हॉल में कमेटी प्रबंधकों का सम्मान किया। स्टाफ सदस्यों ने सिरोपा और कृपाण भेंट कर अध्यक्ष कालका और महासचिव काहलों को सम्मानित किया। इस मौके पर कमेटी अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका ने कहा कि सिखी और गुरु घरों की देखभाल के अलावा उनकी अहम जिम्मेवारी कमेटी स्टाफ सदस्यों के कल्याण की भी है, जिसे निभाना वह अपना फर्ज समझते हैं। उन्होंने कहा कि सभी जानते हैं कि दिल्ली कमेटी ने पिछले 2 वर्षों के दौरान गुरु घरों के रखरखाव के साथ-साथ मानवता के कल्याण के लिए अपने दायरे का विस्तार किया है। विभिन्न प्रकार की चिकित्सा सुविधाओं को बढ़ाया है जिसके चलते दुनिया भर में दिल्ली कमेटी की प्रशंसा हुई है। लेकिन इन सबके बीच बढ़ती महंगाई को देखते हुए स्टाफ सदस्यों के महंगाई भत्ते को बढ़ाना भी हम अपनी जिम्मेवारी समझते हैं जिसे आज पूरा कर उन्हें बेहद खुशी हो रही है।
 इस मौके पर कमेटी महासचिव जगदीप सिंह काहलों ने कहा कि आज के दौर में नौकरी के साथ-साथ स्वस्थ होना भी अनिवार्य है। इसलिए दिल्ली कमेटी के सभी स्टाफ सदस्यों और उनके परिवार के सदस्यों को कठिन समय में चिकित्सा सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से एक मेडिक्लेम नीति बनाने की योजना बना रहे हैं और जल्द ही इसे लागू किया जाएगा। इस पॉलिसी के तहत किसी भी तरह की बीमारी या दुर्घटना की स्थिति में पॉलिसीधारक को बड़े अस्पताल में इलाज कराने की सुविधा मिलेगी।
    इस मौके पर डीएसजीएमसी के जनरल मैनेजर धर्मिंदर सिंह, बलबीर सिंह, सुखविंदर सिंह,  इकबाल सिंह, हरजिंदर सिंह, जसप्रीत सिंह करमसर,विक्रम सिंह रोहिणी,  हरजीत सिंह पप्पा,  सुखबीर सिंह कालरा, सर्वजीत सिंह विर्क, गुरमीत सिंह भाटिया, भूपिंदर सिंह गिन्नी, अमरजीत सिंह पिंकी, जसप्रीत सिंह जस्सा आदि भी मौजूद थे।
 

comments

.
.
.
.
.