Thursday, Apr 15, 2021
-->
Delhi Agriculture bill Farmer protest repeal law sobhnt

कृषि कानूनों पर वापस सरकार संसद जाएगी या फिर कोर्ट ?

  • Updated on 1/22/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली की चारों सीमाओं पर बैठे किसान इस समय भारत सरकार के लिए सरदर्द बने हुए है। भारत सरकार से 10 वें दौर की बातचीत के बाद भी यह मामला यहां तक पहुंचा है कि सरकार ने किसान संगठनों के सामने तीनों विवादित कृषि कानूनों को अगले डेढ साल तक स्थगित करने का प्रस्ताव रखा है। जिसे किसान संगठनों ने ठुकरा दिया है। वहीं दूसरी तरफ सरकार के इस प्रस्ताव पर विशेषज्ञ सवाल उठा रहे हैं उनका कहना है कि सरकार अपने अधिकार क्षेत्र से आगे की बात कर रही है। 

वैक्सीन लाभार्थियों से PM मोदी ने की बात, कहा- टीका पर हो रही है राजनीति

विशेषज्ञों ने उठाया सवाल
बता दें कुछ विशेषज्ञों ने सवाल उठाया है कि भारत सरकार जिस प्रस्ताव को दे रही है। वैसा मुमकिन नहीं है। भारतीय संविधान में ऐसी कोई भी व्यवस्था नहीं है। जिसके आधार संसद से पास हुए कानून को किसी भी तरह से ठंडे बस्ते में डाला जा सके।  बता दें तीनों कृषि कानून अब एक्ट बन चुके हैं। पिछले साल सितम्बर में दोनों सदनों से पास होने के बाद इस पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हस्ताक्षर हो चुके हैं।  

विधानसभा चुनावों से पहले ममता को लगा एक और झटका, अब इस मंत्री ने दिया इस्तीफा

मंत्री ने कही यह बात
वहीं जब एक केंद्रीय मंत्री से इस मसले पर बात की गई तो उनका कहना था कि हम किसान संगठनो के निर्णय का इंतजार कर रहे हैं। तीन कानूनों को लागू करने वाले नोटिफिकेशन पहले ही दिया जा चुका है। अगर किसान संगठन 1.5 साल के प्रस्ताव पर मान जाते हैं तो हम एक नया नोटिफिकेशन लाकर इनके क्रियान्वयन को रोक सकते हैं। वह कहते हैं कि हमें इसके लिए संसद जाने की जरुरत नहीं। 

सरकार पर नहीं अधिकार
दूसरी तरफ जब इस मसले पर लोकसभा के पूर्व जनरल सकेट्ररी पीडीटी आचार्य से बात की गई तो उनका कहना था कि यह इतना आसान नहीं कि जितना दिख रहा है। वह कहते हैं सरकार को यह अधिकार नहीं है कि वह किसी कानून को ठंडे बस्ते में डाल दे। वह कहते हैं यह बिल लोकसभा से पास किए जा चुके हैं। अब सरकार एक इनको लागू करा सकती है। 

BJP सरकार पर भड़के राहुल गांधी, पूछा- हाथरस जैसी घटना कितनी बार दोहरायी जाएगी?

सिर्फ कोर्ट के पास शक्ति
लोकसभा के दूसरे पूर्व जनरल सेकेट्ररी सुभाष कश्यप ने इस मसले पर अपने विचार रखते हुए कहा है कि ऐसा भूतकाल में कभी नही हुआ कि सरकार अपने द्वारा पास किए गए कानूनों को ठंडे बस्ते में डालना चाहती हो। वह कहते हैं कि केवल सुप्रीम कोर्ट के पास यह शक्ति है कि वह किसी कानून पर रोक लगा दे। सरकार के पास इस तरह की कोई शक्ति नहीं है।

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.