Sunday, Sep 26, 2021
-->
delhi pollution prakash javadekar sobhnt

दिल्ली दुनिया की सबसे प्रदूषित राजधानी, गाजियाबाद दुनिया का दूसरा प्रदूषित शहर

  • Updated on 3/17/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दुनिया के सबसे प्रदूषित 30 शहरों में से 22 भारत में हैं। इतना ही नहीं, दिल्ली दुनिया की सबसे ज्यादा प्रदूषित राजधानियों की सूची में शीर्ष पर है।  स्विस संगठन ‘आई.क्यू. एयर’ द्वारा तैयार और मंगलवार को जारी ‘वल्र्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट-2020’ में यह बात कही गई है। 2019 के मुकाबले 2020 में दिल्ली की वायु गुणवत्ता में सुधार हुआ है लेकिन सुधार के बावजूद दिल्ली दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में 10वें नंबर पर है। 

चिदंबरम ने दिया केजरीवाल सरकार का साथ, बोले- संशोधन विधेयक से एलजी बनेगा ‘वायसराय’

30 में से  22 शहर प्रदूषित 
राजधानी शहरों की बात करें तो दिल्ली दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में भारत प्रमुखता से दिख रहा है और विश्व के सबसे प्रदूषित 30 शहरों में से 22 यहीं के हैं। दिल्ली के अलावा 21 अन्य शहर हैं...उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद, बुलंदशहर, बिसरख जलालपुर, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, कानपुर, लखनऊ, मेरठ, आगरा और मुजफ्फरनगर, राजस्थान में भिवाड़ी, हरियाणा में फरीदाबाद, जींद, हिसार, फतेहाबाद, बंधवाड़ी,गुरुग्राम, यमुनानगर, रोहतक और धारूहेड़ा और बिहार में मुजफ्फरपुर। रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में सबसे ज्यादा प्रदूषित शहर है चीन का शिंजियांग। उसके बाद शीर्ष 10 में से 9 शहर भारत के हैं।    

AAP ने गुजरात विधानसभा चुनाव के मद्देनजर शुरु किया सदस्यता अभियान 

15 साल में दो गुनी हुई वाहनों की संख्या
आर्थिक सर्वेक्षण में सामने आया कि साल 2015-16 के बाद पहली बार दिल्ली में 2019-20 में वाहनों की वृद्धि दर में बढ़ोतरी देखने को मिली। साल 2015-16 में बीते 15 सालों की वहान वृद्धि दर सबसे अधिक 9.94 फीसदी दर्ज की गई। हालांकि सचाल 2018-19 में इसमें गिरावट आई और ये घटकर 3.96 फीसदी हो गई। वहीं अलगे ही साल ये फिर बढ़कर 4.40 प्रतिशत पर पहुंची। 

सेना भर्ती परीक्षा केस: गिरफ्तार मेजर को पुलिस हिरासत में भेजा गया 

2005-06 में थे इतने वाहन
साल 2005-06 में प्रति हजार की आबादी पर वाहनों की संख्या 317 थी जो अब बढ़कर 643 हो गई है। बीते 15 सालों में यह संख्या बढ़कर सीधे दो गुनी हुई है। ये आंकड़े एक ओर आर्थिक विकास की ओर तो इशारा करते हैं लेकिन दिल्ली में प्रदूषण का कारण किस प्रकार से 15 सालों में दो गुना हुआ है उसकी भी अनदेखी नहीं की जा सकती हैे। 31 मार्च 202 तक दिल्ली में वाहनों की संख्या 118.95 लाख थी। जिसमं 66.93 प्रतिशत दुपहिया वहानं और 27.85 प्रतिशत कार और अन्य चार पहिया वाहन हैं। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.