Tuesday, Jun 22, 2021
-->
delhi-republic-day-vm-singh-rashtriya-kisan-mazdoor-sangathan-sobhnt

Congress की टिकट पर दो बार चुनाव लड़ने वाले VM सिंह रिश्ते में लगते हैं मेनका गांधी के भाई

  • Updated on 1/28/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली (Delhi) में गणतंत्र दिवस (Republic Day) समारोह के दिन किसान आंदोलनों ने जो पुलिस के साथ हिंसक झड़प की थी। उसके बाद दो किसान संगठनों ने केंद्र सरकार के खिलाफ हो रहे इस प्रदर्शन से अपने हाथ खींच लिए थे। इनमें से एक किसान संगठन भारतीय किसान मजदूर संगठन है। जिसका नेतृत्व वीएम सिंह कर रहे थे। वीएम सिंह इसके बाद चर्चा में आ गए हैं आइए हम आपको उनके बारे में और जानकारी देते हैं।  

किसान हिंसा में घायल पुलिसकर्मियों से मिलने पहुंचे गृह मंत्री, बढ़ाया हौसला

दो बार लड़े चुनाव
बता दें वीएम सिंह रिश्ते में मेनका गांधी के ममेरे भाई लगते हैं और वह कांग्रेस की सीट से दो बार चुनाव भी लड़ चुके हैं। बता दें किसान संगठनों के साथ विरोध करने वालों में वीएम सिंह का संगठन भी शामिल था। जिसने अब उस आंदोलन से खुद को अलग करने की घोषणा कर दी है। बता दें वीएम सिंह 2009 में लोकसभा चुनाव लड़े थे। जब उन्होंने अपने हलफनामे में यह भी बताया था कि वह 632 करोड़ की सम्पत्ति के मालिक हैं। 

राजस्थान उपचुनावों के लिए तैयार है कांग्रेस, CM गहलोत ने खुद उठाया जिम्मा

मेनका के हैं ममेरे भाई
बताया जा रहा है कि पीलीभीत से विधायक रहे वीएम सिंह भारतीय जनता पार्टी की नेत्री मेनका गांधी के ममेरे भाई हैं और उनके खिलाफ कांग्रेस की सीट से विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं। इसके अलावा वह अपने भांजे वरुण गांधी के खिलाफ भी कांग्रेस की सीट से चुनाव लड़ चुके हैं और दोनों बार उन्हें हार का सामना करना पड़ा है। उन्होंने लालकिले पर झण्डा फहराए जाने वाली बात के बाद हाथ खड़े करते हुए कह दिया था कि वह यहां अपने लोगों को पिटवाने नहीं आए हैं। और इस आंदोलन से अपने हाथ खड़े कर दिए थे।  

केजरीवाल का बड़ा ऐलान, उत्तर प्रदेश और गुजरात समेत 6 राज्यों में विधानसभा चुनाव लड़ेगी AAP

राकेश टिकैत पर भड़के
वीएम सिंह ने भारतीय किसान नेता राकेश टिकैत पर भी हमला किया है, उन्होंने कहा है कि उन्होंने कहा है कि राकेश टिकैत कई बार केंद्र सरकार से होने वाली मीटिंग में गए मगर उन्होंने एक भी बार यूपी के किसानों के गन्ना भुगतान और धान की बात नहीं की, वह कहते हैं कि हम दिल्ली इसलिए नहीं आए कि हम मार खाते रहे और कोई और नेता बनते रहे। हम अपने लोगों को यहां पीटवाने नहीं आए हैं। 

वीएम सिंह ने साफ करते हुए कहा है कि जिन लोगों ने तय रुट का उल्लंघन किया है। वह लोग देश को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। वह कहते हैं कि सरकार को उन लोगों के खिलाफ कार्यवाही करनी चाहिए जो लोग झण्डा फहराने गए थे और हिंसा में लगे हुए थे।  

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.