doval-s-visit-to-kashmir-will-create-positive-environment-circumstances-will-change

डोभाल के कश्मीर यात्रा से बनेगा सकारात्मक माहौल, बदलेंगे हालात

  • Updated on 8/10/2019

नई दिल्ली/कुमार आलोक भास्कर।  जम्मू और कश्मीर से धारा 370 को हटाने के बाद से ही मोदी सरकार राज्य के हालात पर पैनी नजर रखे हुए है। इसके लिए खुद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल वहां पर मौजूद है। डोभाल जहां पहले राज्यपाल सत्यपाल मलिक से बातचीत करके राज्य के हालात के बारे में जानकारी ली। तो अब सड़कों पर टहलकर आम कश्मीरी से मिल रहे है। पहले वे शोपियां में कश्मीरी युवाओं के साथ खाना खाते हुए उनका हाल-चाल जाना तो अब आज अनंतनाग में लोगों के बीच पहुंचकर धारा 370 के हटाने और उसके फायदे के बारे में भी अपने विचार साझा कर रहे है। 

ऑफ द रिकॉर्डः देश का जन्नत अब सुरक्षित, जाने कश्मीर का सच और धारा 370 का भ्रम

विश्वास बहाली में तेजी से जुटे है डोभाल
एनएसए अजित डोभाल के इस दौरे का मकसद रखा गया है कि लोगों के बीच तेजी से विश्वास बहाली किया जाए। ताकि वे अपना सामान्य जीवन-यापन जल्द से जल्द शुरु कर सके। उधर अलगाववादियों और राजनीतिक नेताओं की गिरफ्तारी से मोदी सरकार को जरुर कश्मीर के हालात सुधारने में कामयाबी मिलती दिख रही है। अगर महबूबा और उमर अब्दुला जैसे नेताओं को खुला छोड़ दिया जाता तो हो सकता था कि राज्य के कानून व्यवस्था को बिगड़ने में ज्यादा देर नहीं लगती। लेकिन सरकार ने सही समय पर सही कदम उठाया है। मोदी सरकार का लक्ष्य भी यहीं है कि जनता को साथ लेकर उनके भविष्य और राज्य के बेहतर माहौल बनाने के लिए संवाद स्थापित की जाए। ताकि संदेह की गुंजाइश ही न रहे। 

Navodayatimes

Article 370 के खिलाफ SC पहुंची उमर अब्दुल्ला की पार्टी नेशनल कॉन्फ्रेंस

पाक की नाकाम कोशिश
उधर पाकिस्तान कश्मीर को लेकर भारत पर दवाब की राजनीति शुरु कर दी है। जिसका कोई सिर-पैर नहीं दिख रहा है। पाक जानबूझकर ऐसा दिखाना चाहता है कि इस समय वो कश्मीर की जनता की असली आवाज है। ताकि इसका फायदा अंतराष्ट्रीय तौर पर ले सके। लेकिन भारत की सधी कूटनीति के सामने पाक लगातार कमजोर होता जा रहा है। अभी तक किसी देश ने कश्मीर से धारा 370 को हटाने को लेकर पाक के विरोध का समर्थन नहीं किया है। उल्टे रुस ने भारत का समर्थन करते हुए इसे अंदरुनी मैटर कह दिया है। 

गोली नहीं, मिसाइल नहीं, टमाटर के दाम अब पाकिस्तान के लिए एटम बम से कम नहीं

कश्मीर मुद्दे से अलग-थलग हो रहा पाक
लेकिन इस बदले हालात में हमें पाकिस्तान से सावधान रहना चाहिए। एक बार तो हम अपनी सीमा के भीतर मौजूद पत्थरबाज,अलगाववादी पर कंट्रोल कर सकते है। लेकिन जिस तरह का भाषा, विचार, हथियार को माध्यम बनाकर पाकिस्तान कश्मीर को भारत से छीनने की नाकाम कोशिश में लगा रहता है, उस पर अंतिम प्रहार करने का भी समय आ गया है।        

PM मोदी ने पूरा किया वादा, कश्मीर में बनेगा IIM का ऑफ-कैंपस, ये कोर्सेज होंगे शुरु

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कश्मीरी अवाम के हितों पर चर्चा की
पीएम नरेंद्र मोदी को अभी ज्यादा सचेत रहने की आवश्यकता है। ताकि कश्मीर मुद्दे से हमेशा के लिये पाकिस्तान को अलग-थलग कर दिया जाए। इसके लिए बहुत जरुरी है कि कश्मीरी अवाम के दिल को जीतने की जितनी भरसक प्रयास हो सकते है, वो सब करनी चाहिए। हालांकि पीएम मोदी ने अपने संबोधन में सीधा कश्मीर की जनता से मुखातिब होते हुए उनके हितों पर लंबी चर्चा की है। जिसका सकारात्मक असर आने वाले दिनों में दिखेगा। 

उन्होंने स्पष्ट किया कि पिछले 70 साल से देश के संसद से पास कानून को कैसे देश भर में तो लागू किया जाता रहा है, लेकिन कश्मीर की अवाम को अंधेरे में ही रखा गया है। जो सही नहीं है। अगर नई दिल्ली 1 रुपया भेजती है तो देश के किसी भी नागरिक को अब मिल जाती है। लेकिन यह स्थिति कश्मीर में नहीं है। वहां के हालात तो बयां कर रहे है कि कैसे जन्नत को बंद दीवारों से कैद करके रखा गया। 

कश्मीरी ‘उपद्रवियों’ को विशेष विमान से भेजा जा रहा है आगरा की जेल में

राजनीतिक दल कश्मीरी अवाम को रखा विकास से दूर
भारत सरकार के भेजे गए पैसे को सीधा राजनीतिक दल और अलगाववादी हवा में उड़ाता रहा लेकिन कश्मीर की जनता के हाथ में सिर्फ संघर्ष, बंदूक, आतंकवाद के सहारे छोड़ दिया गया। लेकिन अब कश्मीर के हालात बदल रहे है, इसका ही जायजा लेने अजित डोभाल घाटी में घूमकर लोगों के सीने में छिपे 70 साल के दर्दों को बाहर करने में जुटे है। उम्मीद है कि कश्मीर के डोभाल के इस दौरा से सकारात्मक माहौल बनाने में सफलता मिलेगी।   
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.