Wednesday, Apr 14, 2021
-->
EC asked health ministry to remove PM modi photo on Vaccination certificate sobhnt

TMC की शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने केंद्र को लिखा पत्र, पीएम की फोटो हटाने का दिया आदेश

  • Updated on 3/6/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बंगाल में विधानसभा चुनावों से पहले तृणमूल कांग्रेस (TMC) की शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने स्वास्थ्य मंत्रालय को चिट्ठी लिखकर चुनाव वाले राज्यों से वैक्सीनेशन कार्यक्रम के दौरान दिए जाने वाले सर्टिफिकेट से पीएम मोदी (PM Narendra modi) की फोटो हटाने को कहा है। आयोग ने इसे आचार संहिता को उल्लंघन मानते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने पीएम मोदी के फोटो को हटाने को कहा है।  

प्रधानमंत्री इमरान खान के विश्वास मत का विपक्ष करेगा बहिष्कार

TMC ने की थी शिकायत
बता दें पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान होने के बाद तृणमूल कांग्रेस ने चुनाव आयोग को शिकायत की थी। जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर सरकारी मशीनरी का गलत  इस्तेमाल करते हुए कोविड वैक्सीनेशन वाले सर्टिफिकेट से पीएम का फोटो हटाने की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि यह आर्दश आचार संहिता का उल्लंघन है। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्रालय को नियम कायदे का हवाला देते हुए यह कार्यवाही की है। बता दें मिली सूचना के अनुसार चुनाव आयोग ने स्वास्थ्य मंत्रालय को किसी निजी व्यक्ति का नाम लिए बिना आदर्श आचार संहिता के नियमों के पालन करने के लिए कहा था।  

किसान आंदोलन के आज 100 दिन पूरे, KMP होगा जाम और टोल फ्री

स्वास्थ्य मंत्रालय लेगा एक्शन 
मिली जानकारी के अनुसार चुनाव आयोग की चिंता के बाद अब स्वास्थ्य मंत्रालय चुनावी राज्य, पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी से कोरोना वैक्सीनेशन के दौरान दिए गए सर्टिफिकेट  से पीएम मोदी की तस्वीर हटाने पर विचार कर रहा है। बता दें मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस ने चुनाव आयोग से वैक्सीनेशन के दौरान पीएम मोदी वाली सर्टिफिकेट को आर्दश आचार संहिता का उल्लंघन बताते हुए इसकी शिकायत की थी।  

किसान आंदोलन के आज 100 दिन पूरे, KMP होगा जाम और टोल फ्री 

आचार संहिता का सातवां नियम 

गौरतलब है कि चुनाव आयोग के द्वारा जारी आर्दश आचार संहिता के सातवें नियम में यह साफ-साफ कहा गया है कि कोई भी सरकारी पैसे से किसी भी योजना की सफलता का विज्ञापन इस दौरान नहीं लगा सकते हैं। इसे चुनाव आयोग की आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना जाएगा। 
 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.