Friday, May 14, 2021
-->
ed karnail singh batla house encounter case supreme court sobhnt

करनैल सिंह बोले, चुनावी लाभ के लिए बटला हाउस एनकाउंटर को बताया गया था फर्जी

  • Updated on 3/9/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। 2008 से विवादों में रहे बटला हाउस एनकाउंटर को अब 13 साल से ज्यादा का समय बीत चुका है। ऐसे में ईडी (ED) के पूर्व डायरेक्टर और एनकाउंटर के दौरान ज्वाइंट कमिश्रनर रहे करनैल सिंह ने अपनी बेबाक राय रखी है। वह कहते हैं कि कुछ लोगों ने अपने दिमागी उपज से एनकाउंटर पर सवाल खड़े किए। मगर कोर्ट का फैसला फैक्ट्स पर आधारित है। उनके पास इसके पुख्ता प्रमाण थे और ठोस सबूत थे। बता दें कोर्ट ने एक दिन पहले ही आरिज खान उर्फ  जुनैद को दोषी ठहराया था। 

महिला किसानों ने महिला दिवस के मौके पर प्रदर्शन स्थलों पर संभाला मोर्चा  

मीडिया से बात करते हुए क्या बोले
मीडिया से बात करते हुए करनैल सिंह ने कहा है कि एनकाउंटर के दौरान दो लोग भागे थे। जिसमें से एक का नाम आरिज और दूसरे का नाम शाहजाद था। वह बताते हैं कि उन्होंने पुलिस टीम पर फायरिंग भी की थी। इस लड़ाई में उनके जाबांज इंस्पेक्टर मोहन चंद शहीद भी हुए थे। उन्होंने बताया इसके अलावा एक हवलदार के हाथ में फेक्चर भी हुआ था। 

केरल के CM का BJP पर पलटवार, अमित शाह को बताया 'सांप्रदायिकता का मूर्त रूप'

इंडियन मुजाहिद्दीन को किया खत्म 
करनैल सिंह बताते हैं कि चूंकि उस समय चुनाव पास में थे इसलिए हमको फर्जी बताया गया। वह कहते हैं कि उसके एनकाउंटर के बाद स्पेशल सेल को लगभग खत्म कर दिया गया। वह कहते हैं कि यह हमारी ही मेहनत थी कि इंडियन मुजाहिद्दीन आज भारत से खत्म हो गई है। वह कहते हैं कि हमने इंडियन मुजाहिद्दीन को भारी नुकसान पहुंचाया था। वह कहते हैं कोर्ट के आदेश इस बात की बताते हैं कि हमारे पास पुख्ता प्रमाण थे। जिसके आधार पर यह फैसला लिया गया।   
कोलकाता के सरकारी दफ्तर में लगी आग, अभी तक 9 की मौत

उसके बाद नहीं हुई कोई बड़ी घटना 
करनैल सिंह दावा करते हैं कि उस समय हमारे खिलाफ महौल बनाया गया था। वह कहते हैं कि हमारी इतनी बड़ी कामयाबी राजनीति की भेंट चढ़ गई। वह कहते हैं कि आप उस समय के नेताओं के बयान चेक कीजिए। वह कहते हैं कि इस एनकाउंटर में हमने अपने को खोया था। उसके बाद इस समय की चीजों ने दुखी किया । वह कहते हैं आप याद कीजिए उस घटना के बाद इंडियन मुजाहिद्दीन ने देश में कहीं भी ब्लास्ट की घटना को अंजाम नहीं दिया। इससे साबित होता है कि हमने सही कैच को पकड़ा था। मगर हमारी सारी मेहनत राजनीति की भेंट चढ़ गई। 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.