Monday, Jan 24, 2022
-->
further-waiting-for-the-new-congress-president-elections-will-be-held-next-year

कांग्रेस के नए अध्यक्ष के लिए और बढ़ा इंतजार, अगले साल 21 अगस्त से 20 सितम्बर के बीच होगा चुनाव

  • Updated on 10/16/2021

नई दिल्ली/शेषमणि शुक्ल। कांग्रेस के नए अध्यक्ष के लिए अभी और इंतजार करना होगा। पार्टी की ओर से घोषित संगठनात्मक चुनाव कार्यक्रम के अनुसार अगले साल सितम्बर से अक्तूबर के बीच नए अध्यक्ष का चुनाव कराया जाएगा। तब तक सोनिया गांधी यथावत पार्टी अध्यक्ष रहेंगी। फिलहाल पार्टी नवम्बर से अगले साल 31 मार्च तक देशभर में व्यापक स्तर पर सदस्यता अभियान चलाने जा रही है। इस दौरान जनजागरण और कार्यकर्ताओं से लेकर नेताओं तक के प्रशिक्षण कार्यक्रमों का भी आयोजन करेगी।

‘जी-23’ के नेताओं को सोनिया की खरी-खरी, मुझसे सीधे बात करिए, मत बनाइए मीडिया को माध्यम

कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारक इकाई, कांग्रेस कार्य समिति (CWC) ने शनिवार को फैसला किया कि अगले साल 21 अगस्त से 20 सितम्बर के बीच पार्टी अध्यक्ष का चुनाव कराया जाएगा। कांग्रेस संगठन महासचिव के.सी. वेणुगोपाल ने सीडब्ल्यूसी में संगठन चुनाव का कार्यक्रम पेश कर यह साफ कर दिया कि पार्टी को नया अध्यक्ष अब अगले साल ही मिल सकेगा। CWC के निर्णयों की मीडिया ब्रीफिंग में वेणुगोपाल के साथ पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि नए अध्यक्ष के चुनाव तक सोनिया गांधी यथावत पार्टी अध्यक्ष का दायित्व निभाती रहेंगी। पूरी सीडब्ल्यूसी ने इस पर अपनी मुहर लगा दी है। घोषित कार्यक्रम के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव अगले साल सितम्बर से अक्तूबर के बीच होगा। सीडब्ल्यूसी और बाकी इकाइयों के चुनाव प्लेनरी सेशन में कराए जाएंगे। 

कांग्रेस पार्टी में अब आतंरिक लोकतंत्र भी नहीं बचा, CWC परिवार बचाओ कार्य समिति

उन्होंने बताया कि एक नवम्बर से अगले साल 31 मार्च तक पार्टी व्यापक स्तर पर सदस्यता अभियान चलाया जाएगा। इसके बाद 15 अप्रैल तक सभी सदस्यों और चुनावों के दावेदारों की सूची जिला कांग्रेस कमेटियों की ओर से प्रकाशित की जाएगी। 16 अप्रैल से 31 मई के बीच ब्लॉक कांग्रेस कमेटियों एवं बूथ समितियों के अध्यक्षों का चुनाव होगा। फिर एक जून से 20 जुलाई के बीच जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्षों, कोषाध्यक्षों, उपाध्यक्षों और कार्यकारी समिति का चुनाव कराया जाएगा। इसके साथ ही 2022 में 31 जुलाई से 20 अगस्त के बीच प्रदेश कांग्रेस कमेटियों के अध्यक्षों, उपाध्यक्षों, कोषाध्यक्ष और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सदस्यों का चुनाव संपन्न होगा। कांग्रेस नेताओं ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता में हुई बैठक में पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी समेत 52 नेता शामिल हुए, जिनमें से 45 ने अपनी बात रखी। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अस्वस्थ होने के कारण और वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह कुछ निजी कारण से इस बैठक में शामिल नहीं हो सके। 

-राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने की फिर उठी मांग
CWC की बैठक में राहुल गांधी को एक बार फिर कांग्रेस अध्यक्ष बनाने की मांग उठी। सूत्रों के मुताबिक राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राहुल गांधी को एक बार फिर से पार्टी की कमान संभालनी चाहिए। अंबिका सोनी समेत छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कई अन्य नेताओं ने भी इसका समर्थन किया। सूत्रों ने बताया कि वरिष्ठ नेताओं के आग्रह पर राहुल गांधी ने कहा कि आपकी भावनाओं का सम्मान करता हूं। इस पर विचार करूंगा। समय आने पर फैसला होगा। पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद से सोनिया गांधी पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभाल रही हैं।

-केंद्र सरकार राज्यों के अधिकारों का कर रही अतिक्रमण
CWC ने राजनीतिक, आर्थिक और देश के हालात को लेकर तीन प्रस्ताव भी पारित किया। इसमें कांग्रेस ने कहा कि पंजाब, पश्चिम बंगाल और असम में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) को अंतरराष्ट्रीय सीमा से मौजूदा 15 किलोमीटर की जगह 50 किलोमीटर के बड़े क्षेत्र में तलाशी लेने, जब्ती करने और गिरफ्तार करने का अधिकार दिए जाने संबंधी अधिसूचना को वापस लेने के लिए केंद्र सरकार पर दबाव बनाएगी। कांग्रेस ने इस अधिसूचना को राज्य सरकारों के अधिकारों का अतिक्रमण करार दिया है। CWC ने दावा किया कि देश में आंतरिक और बाहरी सुरक्षा, दोनों को लेकर मोदी सरकार और भारतीय जनता पार्टी ने राष्ट्रीय सुरक्षा से गंभीर खिलवाड़ और समझौता किया है। प्रस्ताव में तालिबान के अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों पर लगातार हमले को लेकर भी CWC ने चिंता जताई। यह भी कहा कि अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों, अल्पसंख्यकों, महिलाओं, पिछड़े वर्गों और उनके अधिकारों पर ‘हमले’ चिंताजनक हैं। प्रस्ताव में अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर भी चिंता प्रकट की गई है। इसमें आरोप लगाया गया है कि मोदी सरकार देश की संपत्तियों को बेचने में लगी है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.