Saturday, Jul 31, 2021
-->
haryana faridabad nikita murder case verdict sobhnt

निकिता तोमर हत्या मामला : अदालत ने दो दोषियों को उम्र कैद की सजा सुनायी

  • Updated on 3/26/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। फरीदाबाद की एक फास्ट ट्रैक अदालत ने निकिता तोमर हत्याकांड मामले में दो दोषियों को शुक्रवार को उम्रकैद की सजा सुनायी। अदालत ने दोनों दोषियों तौसीफ और रेहान पर 20,000-20,000 रुपए का जुर्माना भी लगाया। अभियोजन पक्ष के वकील एदल सिंह रावत ने बताया कि तौसीफ और रेहान को हत्या, साजिश रचने व विवाह के लिए अपहरण की कोशिश करने का दोषी ठहराते हुए उम्र कैद की सजा सुनाई गई है। 

स्वेज नहर में जाम लगने से फंसे क्रूड ऑयल के शिप, पेट्रोल-डीजल पर पड़ेगा असर  

अदालत ने इस मामले में एक आरोपी को बरी कर दिया था। उन्होंने कहा कि तौसीफ को अवैध हथियार रखने का भी दोषी ठहराया गया है। अदालत द्वारा सजा सुनाए जाने के बाद पुलिस ने दोनों दोषियों को हिरासत में ले लिया और उन्हें नीमका जेल भेज दिया। रावत ने कहा कि इन धाराओं के तहत अधिकतम फांसी की सजा का प्रवधान है और वह इसके लिए अपील करेंगे। 

अदालत ने इस बेहद चर्चित मामले का पांच महीने के अंदर निपटारा किया है। मामले में अभियोजन पक्ष ने फॉरेंसिक एवं अन्य सबूतों के साथ 57 गवाहों को भी पेश किया। गौरतलब है कि गत वर्ष 26 अक्टूबर को बीकॉम अंतिम वर्ष की छात्रा निकिता तोमर जब परीक्षा देकर कॉलेज से बाहर निकली थी, तभी तौसीफ और रेहान ने पीड़िता को जबरन कार में बैठाने की कोशिश की और असफल होने पर तौसीफ ने गोली मारकर निकिता की हत्या कर दी थी।


 आरोपी तौसीफ और रेहान दोषी करार
यह मामला अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सरताज बासवाना की फास्ट ट्रैक कोर्ट में चल रहा था। पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट के आदेश पर इस केस की सुनवाई अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सरताज बासवाना की कोर्ट में शुरू हुई। एक दिसंबर को पहली गवाही कराई गई। जिसमें घटना के चश्मदीद निकिता के चचेरे भाई तरुण तोमर और सहेली निकिता शर्मा शामिल हुए। बचाव पक्ष की ओर से 55 लोगों ने गवाही दी जिसमें परिवार के सदस्यों, कॉलेज के प्रिंसिपल समेत कई पुलिसकर्मी शामिल हुए। बचाव पक्ष ने दो दिन में अपने गवाह पेश किए और गवाहों के बयान दर्ज कराए।

राज्यसभा ने NCT संशोधन विधेयक को दी मंजूरी, AAP का भारी विरोध

मामले में 57 की हुई गवाही
मंगलवार को दोनों पक्षों की ओर से गवाही पूरी हो गई। कोर्ट रूम के अंदर जब तीनों आरोपियों को पेश किया गया तो उनमें से एक आरोपी अजरू घबराहट से बेहोश हो गया, अजरु के होश में आने के बाद जज ने अपना फैसला सुनाया। निकिता तोमर पक्ष के अधिवक्ता ऐदल सिंह ने बताया कि इस मामले में कुल 57 गवाहों की गवाही हो चुकी है। बचाव पक्ष की ओर से वकील अनवर खान, अनीस खान, पीएल गोयल ने आरोपितों के बचाव में विभिन्न पक्ष रखे। 26 मार्च को इस मामले को पूरे पांच माह हो जाएंगे।

चुनावी बॉन्ड पर सुप्रीम कोर्ट में भूषण और वेणुगोपाल ने रखी जोरदार दलीलें

यह था मामला
26 अक्टूबर 2020 को दिनदहाड़े कार सवार दो बदमाशों ने बल्लभगढ़ स्थित मिल्क प्लांट रोड पर अग्रवाल कॉलेज से परीक्षा देकर घर लौट रही बी कॉम फाइनल ईयर की छात्रा निकिता तोमर (20 वर्षीय) की गोली मारकर हत्या कर दी थी। लहूलुहान हालत में छात्रा को पास के निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था। हत्या के बाद आरोपी भागने में सफल रहे। हत्या की यह वारदात घटनास्थल के पास लगे एक सीसीटीवी में कैद हो गई थी।

 

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.