Saturday, Nov 27, 2021
-->
hijbul mujahideen leader got attacked for criticizing isi vbgunt

ISI की आलोचना की कीमत : हिजबुल मुजाहिदीन सरगना पर जानलेवा हमला

  • Updated on 5/29/2020

नई दिल्ली टीम डिजिटल। कुछ ही वक्त पहले हिजबुल मुजाहिदीन (hijbul mujahiddin ) के सरगना सैय्यद सलाहुद्दीन (Sayeed Salahudeen) ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI की खुलकर आलोचना की थी। अब सलाहुद्दीन पर हमले के पीछे ISI का ही हाथ माना जा रहा है। 25 मई को हुए  हमले में सलाहुद्दीन को गंभीर रूप से घायल माना जा रहा है। सलाहुद्दीन काफी वक्त से अच्छे हथियारों और अच्छी ट्रेनिंग नहीं मिलने से पाकिस्तानी सेना (pakistan army) और खुफिया एजेंसी (isi) से नाराज बताया जा रहा था।

J&K: मुठभेड़ में शोधछात्र समेत आतंकी ढेर, जामिया से कर रहा था PHD

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी का ही शिकार हुआ ससाहुद्दीन
कश्मीर में भारत सरकार और सेना के खिलाफ आतंकी गतिविधियों के लिए जिम्मेदारी लेने वाले हिजबुल मुजाहिद्दीन को आखिरकार इसी पाकिस्तानी सेना का शिकार होना पड़ा है। पाकिस्तानी सेना और खुफिया एजेंसी ISI प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से हिंदुस्तानी सेना के किलाफ इन्हीं आतंकवादी संगठनों का साथ रहती है। मगर आतंकी संगठन ने कई बार दबे छिपे स्वरों में बेहतर हथियारों की मांग को लेकर अपना असंतोष जाहिर किया था। इस बार खुलकर अपनी मांग जाहिर करते हुए हिजबुल के सरगना सैय्यद सलाहुद्दीन ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के खिलाफ अपना गुस्सा जताया। इसी के साथ इस आतंकी संगठन और पाकिस्तानी हुक्मरानों के बीच गतिरोध भी खुलकर सामने आया।

हिजबुल मुजाहिदीन ने अमरनाथ यात्रियों को दी तसल्ली, सुरक्षा की न करें चिंता

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी की मुखालफत की चुकानी पड़ी कीमत
काफी अरसे से ये संगठन पाकिस्तानी सेना और खुफिया एजेंसियों के बलबूते ही पनप रहे  हैं। पाक सेना की दया और हथियारों पर पलने वाले इन आतंकियों की जबान दराज़ी पाकिस्तानी आलाकमान को जरा भी पसंद नहीं आई और हिजबुल मुजाहिदीन के सरगना सैयद सलाहुद्दीन (Sayeed Salahudeen) को अपनी बयानबाजी की कीमत भी हाथों हाथ चुकानी पड़ी और उस पर जानलेवा हमला किया गया है। 

हिजबुल कमांडर ने दी घाटी की लड़कियों को हिदायत, सेना के जवानों से रहें दूर

 

अमेरिका ने घोषित किया सैयद सलाहुद्दीन को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी 
देश के आजाद होने से सिर्फ एक साल पहले 18 फरवरी 1946 को सैयद सलाहुद्दीन (Sayeed Salahudeen) का जन्म कश्मीर के बड़गाम में हुआ था। कॉलेज की पढ़ाई के बाद ही वो हिंदुस्तान के खिलाफ जेहाद के रास्ते पर चल निकला और कश्मीर छोड़कर पाकिस्तान में बेस तैयार करने में लग गया। कई सारी आतंकवादी वारदातों के पीछे सैयद सलाहुद्दीन (Sayeed Salahudeen) का हाथ माना गया है।

टेरर फंडिंग मामला: आतंकी सलाहुद्दीन के बेटे यूसुफ को मिली 7 दिन की रिमांड

पठानकोट के एयरबेस आतंकवादी हमले में भी सलाहुद्दीन को ही जिम्मेदार माना गया था। अमेरिका सैयद सलाहुद्दीन (Sayeed Salahudeen) को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित कर चुका  है। मगर खुद पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के खिलाफ बयानबाजी उसे भारी पड़ गई। बाकी दहशतगर्द संगठनों को सबक सिखाने और अपना दबदबा बढ़ाने के लिए इस वारदात के पीछे ISI का  हाथ माना जा रहा है। फिलहाल तक उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.