Tuesday, Nov 30, 2021
-->
Incubation and Innovation Center will be started for youth in Ayurveda Institute

आयुर्वेद संस्थान में युवाओं के लिए इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर की होगी शुरुआत

  • Updated on 10/28/2021

नई दिल्ली /नेशनल ब्यूरो :  अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान युवा पेशेवरों (यंग प्रोफेशनल्स) को प्रोत्साहित करने के लिए अपने परिसर में एक इनक्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर की शुरुआत करने जा रहा है। इससे युवा उद्यमियों को आयुष के क्षेत्र में अकादमिक ज्ञान और स्टार्टअप को विकसित करने में मदद मिलेगी। एआईआईए आयुष मंत्रालय के अंतर्गत आने वाला एक शीर्ष आयुर्वेद संस्थान है, जो इस कार्यक्रम की मेजबानी कर रहा है। इसे सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय के माध्यम से पूरा किया जाएगा, जिसमें कुछ नया करने की चाह रखने वाले युवाओं को अनेक अवसर मुहैया करवाए जाएंगे।
 ये इनक्यूबेशन सेंटर आयुर्वेद के क्षेत्र में उद्यमियों को कॉन्सेप्ट टू मार्केट के आधार पर आत्मनिर्भर बनाने में सहायता करेगा और अनुसंधान गतिविधियों के माध्यम से आयुष के बाजार को बढ़ावा देगा। युवा उद्यमियों को ज्ञान के साथ-साथ स्टार्टअप में नवाचार की बारीकियों को समझने का मौका मिलेगा। उभरते हुए उद्यमियों के लिए स्थान, नेटवर्किंग और कई अन्य तरह के संसाधन उपलब्ध करवाएगा ताकि युवाओं को आयुष के क्षेत्र में अवसर मुहैया करवाए जा सकें।
   केंद्रीय आयुष, बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्री सर्बानंद सोणोवाल शुक्रवार को इस इनक्यूबेशन सेंटर का उद्घाटन करेंगे। देश के स्टार्टअप्स और स्टार्टअप इकोसिस्टम को दुनिया में सर्वश्रेष्ठ बनाने की दिशा में केंद्र सरकार लगातार काम कर रही है।
 इस इनक्यूबेशन सेंटर का लक्ष्य आयुर्वेद के क्षेत्र में नए विचारों को बढ़ावा देने के लिए शिक्षाविदों, चिकित्सकों, उद्यमियों और छात्रों को एक मंच पर लाना है। वैज्ञानिक आधारों पर होने वाले इन प्रयासों को अगर एमएसएमई मंजूरी देता है तो युवा उद्यमियों को 15 लाख रुपये तक की सहायता करेगा। 

 AIIA में स्टार्ट अप के तहत आयुर्वेद में खाद्य उद्योगों को बढ़ावा देना है

    एआईआईए की निदेशक डॉ. तनुजा नेसारी के मुताबिक पुराने जमाने में वैद्य मुफ्त सेवाएं दिया करते थे, आज वही सेवाएं उन्नत रूप ले रही हैं। एआईआईए में स्टार्ट अप पहल के तहत हमारा लक्ष्य आयुर्वेद में खाद्य उद्योगों को बढ़ावा देना है और युवा उद्यमियों को इसके लिए तैयार करना है। हमें खुशी है कि आयुष मंत्रालय ने इस प्रयास को सराहा है और समय समय पर हमारा मार्गदर्शन किया है। आधुनिक चिकित्सा ने मानव शरीर के लिए औषधीय संसाधनों का विकास किया है लेकिन हमें स्वस्थ भोजन और आहार पर भी ध्यान देना चाहिए। ऐसे ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सक्षम और सशक्त भारत का सपना साकार हो सकेगा।
 

comments

.
.
.
.
.