Tuesday, Oct 04, 2022
-->
is-the-disgruntled-camp-of-congress-moving-towards-open-rebellion-against-the-leadership

क्या नेतृत्व के खिलाफ खुली बगावत की ओर बढ़ रहा कांग्रेस का असंतुष्ट खेमा

  • Updated on 3/16/2022

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। कांग्रेस नेताओं का कथित असंतुष्ट समूह, जी-23 क्या पार्टी नेतृत्व के खिलाफ अब खुली बगावत की ओर से कदम बढ़ाने जा रहा है? यह सवाल इसलिए उठ रहा है कि बुधवार को जी-23 समूह के नेताओं की एक और बैठक पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद के घर पर हुई। इस बैठक में पार्टी के कई ऐसे चेहरे भी दिखे जो जी-23 का हिस्सा नहीं हैं।

भगवंत मान के शपथ ग्रहण समारोह के बीच मनीष तिवारी का कांग्रेस पर कटाक्ष
कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) की बैठक के बाद पार्टी के असंतुष्ट गुट जी-23 के नेताओं की इस बैठक को काफी अहम माना जा रहा है। उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के निराशाजनक नतीजों को लेकर जी-23 के नेता पार्टी में नेतृत्व परिवर्तन के मुद्दे पर गोलबंदी करते दिख रहे हैं। बुधवार को गुलाम नबी आजाद के घर कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा, मनीष तिवारी, शशि थरूर के अलावा कुछ ऐसे चेहरे भी दिखे जो गांधी परिवार के करीबी माने जाते रहे हैं। सूत्र बता रहे हैं कि बैठक में मणि शंकर अय्यर, अखिलेश प्रताप सिंह, पीजे कुरियन जैसे चेहरे भी दिखाई दिए। वहीं, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंद्र सिंह हुड्डा, महाराष्ट्र के पूर्व सीएम पृथ्वीराज चव्हाण, गुजरात के पूर्व सीएम शंकर सिंह बाघेला, पंजाब की वरिष्ठ नेता राजेंद्र कौर भट्टल, राज बब्बर, संदीप दीक्षित और कैप्टन अमरिंदर सिंह की पत्नी परणीत कौर भी शामिल थे।

प्रमोद सावंत, गोवा के अन्य भाजपा नेताओं ने दिल्ली में प्रधानमंत्री मोदी से की मुलाकात 
सूत्रों की मानें तो बैठक में संगठनात्मक चुनाव के संबंध में सीडब्ल्यूसी में हुई चर्चा और फैसले पर असंतोष जताया गया। जी-23 खानापूर्ति की बजाए, वैधानिक तरीके से अध्यक्ष का चुनाव कराने का पक्षधर है। सूत्रों के मुताबिक जी-23 गांधी परिवार के खिलाफ नए अध्यक्ष समेत बाकी पदों पर होने वाले चुनाव में हिस्सा लेने की भी तैयारी में लग गया है। इसी के मद्देनजर गोलबंदी की जा रही है। यह बैठक पूर्व में कपिल सिब्बल के घर होनी तय हुई थी। सिब्बल ने जी-23 समेत कई और नेताओं को रात्रिभोज पर बुलाया था। लेकिन उनके हालिया बयान से उपजे विवाद के बाद बैठक आजाद के घर करने का तय हुआ। रविवार को हुई सीडब्ल्यूसी की बैठक से एक दिन पहले भी आजाद के घर पर ही जी-23 के नेताओं की बैठक हुई थी, जिसमें हाल के चुनाव नतीजों पर चर्चा हुई थी और संगठनात्मक बदलाव पर जोर दिया गया था।

OROP के मामले में मोदी सरकार ने सैनिकों से विश्वासघात किया: कांग्रेस
सिब्बल ने एक साक्षात्कार में कहा है कि गांधी परिवार को कांग्रेस का नेतृत्व छोड़ देना चाहिए और किसी अन्य को मौका देना चाहिए। उनके इस बयान को लेकर कांग्रेस की चांदनी चौक जिला इकाई ने बुधवार को एक प्रस्ताव पारित कर पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से ‘पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने’ के लिए सिब्बल के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का अनुरोध किया। राज्यसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खडग़े ने आरोप लगाया कि सीडब्ल्यूसी की बैठक के बाद भी ‘जी 23’ समूह के नेता बैठकें करके पार्टी को तोडऩे का प्रयास कर रहे हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने सिब्बल पर निशाना साधते हुए पूछा कि उन्होंने पार्टी में किसी भी पद के लिए चुनाव कब लड़ा था। उन्होंने कहा कि संगठन से इतना कुछ मिलने के बावजूद शिकायत करना दुखद है।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.