Friday, Sep 30, 2022
-->
karan-singh-s-advice-to-jairam-ramesh-if-colleagues-are-honored-congratulate-and-appreciate

कर्ण सिंह की जयराम रमेश को नसीहत, साथी सम्मानित हो तो सराहना करते हुए बधाई दें

  • Updated on 1/27/2022

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डॉ. कर्ण सिंह ने पूर्व मंत्री जयराम रमेश को नसीहत देते हुए कहा कि अगर साथी सम्मानित हो तो सराहना करते हुए बधाई दें न कि कटाक्ष करें। कर्ण सिंह ने यह बात पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद को दिए गए पद्म पुरस्कार पर जयराम रमेश की ओर से किए गए कटाक्ष के परिप्रेक्ष्य में कही।

आजाद को पद्म भूषण पर कांग्रेस में रार, ‘जी23’ के नेताओं ने बधाई दी तो जयराम रमेश ने कसा तंज
कर्ण सिंह ने वीरवार को एक बयान में कहा कि इन राष्ट्रीय पुरस्कारों को लेकर दलगत आधार पर विवाद नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं गुलाम नबी आजाद को उस वक्त से जानता हूं जब उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी और 1971 में ऊधमपुर संसदीय क्षेत्र से मेरे दूसरे चुनाव प्रचार में वह शामिल हुए थे। उनके अनुसार, आजाद अपनी कड़ी मेहनत से आगे बढ़ते गए और अपने समर्पण तथा प्रशासनिक योग्यता के दम पर पी वी नरसिंह राव और मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सरकारों में कैबिनेट मंत्री रहे। सिंह ने कहा कि सात वर्षों तक राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष रहते हुए आजाद ने एक सकारात्मक और रचनात्मक भूमिका निभाई। उन्होंने कहा कि अगर अपना कोई एक साथी सम्मानित हो रहा हो तो उस पर व्यंग्यात्मक टिप्पणियां करने की बजाय उसकी सराहना करते हुए बधाई देनी चाहिए।

यूपी चुनाव 2022: किसान आंदोलन के साए में बागपत की तीनों सीटें 
दरअसल, मोदी सरकार ने गुलाम नबी आजाद को मंगलवार को पद्म भूषण देने की घोषणा की। इस पर जहां पार्टी के तमाम नेताओं ने आजाद को बधाई दी, वहीं जयराम रमेश ने व्यंग्यात्मक टिप्पणी की। दरअसल, सीपीएम नेता और पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य को भी पद्म भूषण की घोषणा हुई है, लेकिन भट्टाचार्य ने इसे अस्वीकार कर दिया। इसी को आधार बनाते हुए रमेश ने आजाद पर सीधे कटाक्ष करते हुए कहा कि ‘यही सही चीज थी करने के लिए। वह आजाद रहना चाहते हैं गुलाम नहीं।’ जबकि कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने आजाद को बधाई देते हुए ट्विट किया, ‘यह विडंबना है कि कांग्रेस को आजाद की सेवाओं की जरूरत नहीं है, जबकि राष्ट्र उनके योगदान को स्वीकार कर रहा है।’ सिब्बल के अलावा आनंद शर्मा, शशि थरूर समेत पार्टी के ‘जी 23’ समूह में शामिल कई नेताओं ने आजाद को बधाई दी और कहा कि उनके योगदान को स्वीकार किया गया है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.