Wednesday, Jul 06, 2022
-->
krishna janmashtami is visible everywhere

कृष्ण जन्माष्टमी की हर ओर दिख रही है धूम

  • Updated on 8/30/2021

नई दिल्ली/अनामिका सिंह। बांधी है उसने प्रीत की डोर, वो है गोकुल का माखन चोर/चारों ओर है उसका ही शोर, नाम है जिसका नंद किशोर। सोमवार को राजधानी में शंख व घडियाल बज उठे, आखिर हों भी क्यों ना नंद दुलारे कृष्ण जो अवतरित होने वाले हैं। उनके अवतरण को लेकर राजधानी के मंदिरों में सोहर गीत गाए जा रहे हैं जबकि घरों में भी महिलाएं मंगलगान कर रही है। आइए जानते हैं कि कैसी तैयारियां की हैं राजधानी के मंदिरों में।

डीयू दाखिला : आवेदन का निर्णायक समय,चुके तो करना पड़ेगा सालभर इंतजार

फूलों के झूले पर विराजे लड्डू गोपाल: झंडेवालान मंदिर
झंडेवालान मंदिर के मीडिया संयोजक नंदकिशोर सेठी ने बताया कि मंदिर में लड्डू गोपाल का फूलों से सजा झूला बनाया गया है। उनके जन्म के बाद भोग के रूप में मक्खन मिश्री, धनिए की पंजीरी, खीरा व विभिन्न प्रकार के फलों का भोग लगाया जाएगा।

Delhi Schools Reopening: अभी नहीं खुलेंगे 8वीं तक के स्कूल, DDMA ने जारी किए दिशा- निर्देश

महाभिषेक कर श्रृंगार किया: बिरला मंदिर
बिरला मंदिर प्रशासन के विनोद मिश्रा ने बताया कि पूरे मंदिर को फूलों व रंग-बिरंगी लाईटों से तो सजाया ही गया था। रात करीब 11 बजे कृष्ण जी का महाभिषेक कर श्रृंगार किया जाएगा और 12 बजे जन्म लेने के बाद विधि-विधान से आरती कर चरणामृत व धनिए की पंजीरी का भोग लगाकर प्रसाद वितरित होगा।

जातीय भेदभाव निगरानी को जारी यूजीसी सर्कुलर, तीन साल बाद भी लागू नहीं

सोने के आभूषण से सजे भगवान: छत्तरपुर मंदिर
छत्तरपुर मंदिर के सीईओ डाॅ. किशोर चावला ने बताया कि चांदी के पालने में लड्डू गोपाल को सोने की बांसूरी व मुकुट से सजाया गया। पूरे मंदिर में प्रकाशोत्सव हो रहा है। रात साढे 11 बजे विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ प्रारंभ किया जाएगा और भगवान के जन्म के बाद पंचामृत स्नान करवाकर झूले में खीरे के साथ बैठाया जाएगा।

शिक्षा मंत्रालय ने दिए उच्च शिक्षण संस्थानों में बैकलॉग पदों को भरने के निर्देश

कोविड के चलते पासधारको को सिर्फ अनुमति
जन्माष्टमी के अवसर पर कोविड गाइडलाइंस का पालन करते हुए मंदिरों से भक्त दूर ही रहे। मंदिर प्रशासन ने पहले ही इसकी जानकारी दे दी थी। हालांकि मंदिर में पासधारक सेवादारों को ही आने की अनुमति प्रदान की गई है। इसीलिए तैयारियां तो पूरे धूमधाम से की गईं हैं पर पूजा सिर्फ पंडितों, ट्रस्टी मेंबरों व सेवादारों ही कर रहे हैं।

राशन दुकान जाने में सक्षम नहीं हैं तो भरें फॉर्म, मदद करेगा विभाग

घर-घर में झूले मदन गोपाल
काॅलोनियों में हर साल मदन गोपाल के जन्मोत्सव पर दही-हांडी व झांकियां भी आरडब्ल्यूए के सौजन्य से लगाई जाती थीं। लेकिन कोरोना ने इस पर भी अंकुश लगा दिया। हालांकि लोगों में इसे लेकर जोश बिल्कुल भी कम नहीं हुआ। लोग अपने बच्चों का राधा-किशन का श्रृंगार करवाकर सोशल मीडिया पर फोटो व वीडियो जमकर अपलोड कर रहे हैं। वहीं घर-घर में छोटे-छोटे झूलों पर मदन गोपाल झूलते नजर आ रहे हैं।
 

comments

.
.
.
.
.