Sunday, Apr 18, 2021
-->
malappuram police busted drugs gang who makes rape trape for girls sobhnt

इंस्टा के सहारे ड्रग्स गैंग ने नाबालिग को फंसाया, ड्रग्स देकर महीनों किया रेप

  • Updated on 2/25/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केरल (Kerala) के मलप्पुरम (Malappuram) जिल से एक रोगंने खड़े कर देने वाली खबर आ रही है, यहां की चाइल्डलाइन (Childline) संस्था ने एक ऐसी 14 साल की बच्ची को रेसक्यू किया है, जिसे इंस्टाग्राम के सहारे ड्रग्स देकर उसके घर में ही महीनों से उसका रेप किया जा रहा था। हैरान करने वाली बात यह है यह सब  कुछ लोगों ने एक ऑनलाइन सोशल मीडिया गैंग बना कर किया, जो स्कूल जाने वाली लड़िकियों को इंस्ट्राग्राम के सहारे फंसाते थे, पहले इन लड़कियों को नशे की लत लगाई जाती है फिर उसके बाद इन लड़कियों के साथ यौन शोषण किया जाता है, और यह सब जिले के अच्छे परिवार की लड़कियों के साथ किया जा रहा था।  

पुडुचेरी: PM मोदी आज करेंगे जनसभा, कई परियोजनाओं का होगा शुभारंभ

नशीले पदार्थ देकर लड़कियों को हो रहा यौन-शोषण
बता दें जिस लड़की को बचाया गया वह एक अच्छे खासे परिवार से ताल्लुक रखती है, इस मामले की गंभीरता को इस बात से समझा जा सकता है कि आरोपी लड़की को उसके घर जाकर ड्रग्स और कोकीन जैसे न बल्कि नशीले पदार्थ दे रहे थे। इसके साथ ही यह लोग लडकी के घर में उसका रेप भी कर रहे थे। डराने वाली बात यह है कि इन लोगों के लिए चुपचाप लड़की ही रात को घर का गेट खोलती थी। बाद में लड़की ने इन लोगों का विरोध करना शुरु किया तो इन लोगों ने उसको जान से मारने की धमकी भी दी थी और कहा था कि वह उन लोगों का नाम न ले।  

PM मोदी बोले, बेकार पड़ी कंपनियों को बेचकर 2.5 लाख करोड़ जुटाएगी सरकार

लड़की ने 7 अपराधियों की पहचान की
हालांकि अब लड़की ने इस गैंग के सात अपराधियों की पहचान कर ली गई है। जिसमें से अभी 6 फरार हैं और पुलिस ने 1 को गिरफ्तार कर लिया है। फिलहाल बच्ची इस समय बाल संरक्षण आयोग की देखरेख में है। आयोग के चेयरमैन शदेश भास्कर ने कहा है हम लड़की की देखभाल कर रहे हैं। वह कहते हैं कि हमने लड़की की सुरक्षा और स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए नशा मुक्ति टीम से बात कर रहे हैं ताकि लड़की को इससे बाहर निकाला जा सके। इसके अलावा उन्होंने लड़की की हालात के लिए शहर में महिला सुरक्षा का ध्यान रखने वाले और पुलिस की लापरवाही की भी आलोचना की है। 

सुप्रीम कोर्ट ने उन्नाव के मेडिकल कॉलेज पर लगाया 5 करोड़ रुपये का जुर्माना

बाल संरक्षण आयोग ने दिखाई गंभीरता
बता दें कि उन्होंने इस मामले को काफी गंभीर बताया है उनका कहना है कि यह कोई साधारण पोस्को (Posco) का केस नहीं हैं। वह कहते हैं कि यह मामला बेहद ही गंभीर है और इसमे तुरंत कार्यवाही होनी चाहिए। वह कहते हैं इस अपराध ने उन्हें चौंका दिया है। मल्लप्पुरम में कभी इस तरह ही चीजें नहीं हुई हैं, कुछ अपराधी लड़कियों को इंस्टाग्राम के सहारे फंसाकर पहले उन्हें नशा की लत लगा रहे हैं और उसके बाद उनके साथ यौन शोषण कर रहे हैं। 

चाइल्डलाइन के अधिकारियों का कहना है कि वह इस मामले में ऊपरी हस्तक्षेप के लिए पुलिस को दो दिन का समय दे रहे हैं। वह कहते हैं जिले में सैकड़ों लड़किया फिलहाल इन लोगों के चंगुल में फंस गई है। जिनका यह लोग इस्तेमाल कर रहे है। वह डरी हुई हैं। वह कहते हैं कि यह मामले कोरोना के  बाद स्कूल ऑनलाइन हो जाने से और बढ़े हैं।    

 

 

ये भी पढ़ें:

comments

.
.
.
.
.