Wednesday, Jun 16, 2021
-->
ministry of health  on corona virus strict these 3 new rules issued by home isolation

कोरोना पर सख्त स्वास्थ्य मंत्रालय, Home Isolation के जारी किए ये 3 नए नियम

  • Updated on 5/7/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  देश में बढ़ रहे कोरोना के प्रकोप को रोकने के लिए सरकार हर वो कदम उठा रही है जो इस महामारी को रोक सकें। ऐसे ममें केंद्रीय संवास्थ्य मंत्रालय की तरफ से होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों को लिए नए दिशा- निर्देश जारी किए गए हैं। 

क्या हैं वो नियम-

पहला नियम
इस नए नियम के अनुसार होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीज को अगर 10 दिनों तर रहने के बाद अगर लगातार तीन दिन तक बुखार नहीं आता है तो वो होम आइसोलेशन से बाहर आ सकता है। इसके साथ ही अब उसे टेस्ट कराने की भी जरूरत नहीं है लेकिन स्वास्थ्य मंत्रालय साफ कहा है कि अगर लगातार तीन दिनों तक बुखार नहीं आता है उसी वक्त मरीज बाहर आ  सकता है।

Indian Railways ने किया बड़ा ऐलान, वंदे भारत और शताब्दी समेत इन ट्रेनों को किया रद्द

दूसरा नियम
स्वास्थ्य मंत्रालय के इस नियम के अनुसार जो भी मरीज अगर सेल्फ आइसोलेशन में है तो उस वक्त उसका ऑक्सीजन सैचुरेशन 94+ होना चाहिए इसके साथ ही उसके पास वेंटिलेशन भी सही होना  चाहिए।  

तीसरा नियम
स्वास्थ्य मंत्रालय के इस नियम के  अनुसार मरीज को कभी भी अकेला नहीं छोड़ना है। अगर कोई मरीज होम आइसोलेशन में है तो उसके पास एक केयरटेकर होना ही चाहिए। अगर मरीज की उम्र 60 से ऊपर है या मरीज को तनाव, डायबिटीज, हार्ट डिजीज, क्रोनिक लंग/लीवर/किडनी रोग है तो उसे पहले किसी अच्छे  डॉक्टर को दिखाना चाहिए उसके बाद डॉक्टर की परामर्श पर होम आइसोलेशन होना चाहिए।

बेकाबू Corona पर आखिर कैसे लगेगी लगाम! लगातार दूसरे दिन मामले 4 लाख के पार

बुखार कंट्रोल करने के लिए ले ये टैबलेट
अगर आप या आपका कोई मरीज होम आइसोलेशन में है  और उसको बुखार आ रहा है तो उसका बुखार नियंत्रित करने के लिए   पैरासीटामोल 650 एमजी दिन में चार बार ले सकते हैं।  अगर इसके बाद भी कंट्रोल नहीं होता है तो डॉक्टर के परामर्श पर नोप्रोक्सेन 250 एमजी जैसी नॉन-स्टेयरॉयडल एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाई दिन में दो बार ले सकता है। 


Note- इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्रालय ने ये साफ कर दिया  कि मरीज को घर पर कभी- भी रेमडेसिविर इंजेक्शन नहीं लगाना चाहिए।

comments

.
.
.
.
.