Wednesday, Sep 28, 2022
-->
MLAs are being targeted, condemnation motion passed against CBI in assembly

विधायकों को बनाया जा रहा है निशाना, विधानसभा में सीबीआई के खिलाफ पारित किया निंदा प्रस्ताव

  • Updated on 7/5/2022

-हंगामा, सदन को करना पड़ा स्थगित, भाजपा विधायकों को मार्शलों ने किया बाहर 
-मनीष सिसोदिया ने निंदा प्रस्ताव का किया समर्थन 
नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली विधानसभा में एक प्रस्ताव पारित कर सीबीआई की, विधायकों को उनके कर्तव्यों का पालन करने को लेकर चुनिंदा तरीके से निशाना बनाने के लिए निंदा  की गयी।  यह प्रस्ताव दिल्ली परिवहन निगम में चालकों के स्थानांतरण और नियुक्तियों को कथित रूप से प्रभावित करने के आरोप में आम आदमी पार्टी के दो विधायकों, सुल्तानपुर माजरा से मुकेश अहलावत और बुराड़ी से संजीव झा के सीबीआई की जांच के घेरे में आने के बाद आया है। 
      अधिकारियों ने सोमवार को कहा था कि रिश्वत के एक मामले में गिरफ्तार डीटीसी के उप मुख्य महाप्रबंधक शकील अहमद ने पूछताछ के दौरान दावा किया कि कई विधायक, चालकों और अन्य डीटीसी कर्मचारियों के स्थानांतरण और नियुक्तियों से संबंधित मुद्दों में हस्तक्षेप करते थे। यह खबर छापे जाने के बाद संजीव झा ने मामले को उठाया और विधायकों ने नारेबाजी और भाजपा हाय-हाय के नारे लगाते हुए अध्यक्षता कर डिप्टी स्पीकर राखी बिड़लान के आसन के सामने आ गए। भाजपा विधायकों ने भी परचे दिखाने शुरू कर दिए और गतिरोध देख सदन 10 मिनट के लिए स्थगित कर दिया गया। 
     कार्यवाही शुरू होने पर आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने सदन में प्रस्ताव रखा जिसकी प्रक्रिया पर भाजपा सदस्यों ने आपत्ति जताई तो उन्हें मार्शलों से बाहर कर दिया गया। फिर पेश प्रस्ताव में कहा गया है कि सदन सदस्यों को निशाना बनाने के प्रयासों के लिए सीबीआई की ङ्क्षनदा करता है जबकि ये सदस्य केवल अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे थे जो कि निर्वाचित प्रतिनिधियों से अपेक्षित हैं। चर्चा के दौरान आप विधायकों ने केंद्र पर पार्टी विधायकों को जानबूझकर परेशान करने का आरोप लगाया। उन्होने कहा कि सीबीआई ने आप के दो विधायकों को बदनाम करने के लिए खबर गढ़ी थी। हम भाजपा विधायकों के लिखे पत्रों की भी जांच कर सकते हैं, जो लोगों के काम के लिए विभिन्न विभागों को लिखे जाते हैं।
          संजीव झा ने कहा कि यह सीबीआई का एक चयनित तरीका है जिसे एक राजनीतिक उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। उन्होंने कहा, भाजपा विधायकों को निशाना बनाकर केजरीवाल शासन के दिल्ली मॉडल को बदनाम करने की कोशिश कर रही है। भाजपा सरकार की ओर से एक गलत मिसाल कायम की जा रही है। वह हमेशा सत्ता में नहीं रहेंगे और उनके साथ भी ऐसा ही व्यवहार हो सकता है। 
       विधायकों ने कहा कि हम इन साजिशों से डरते नहीं हैं। उन्होंने मांग की कि केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग के खिलाफ एक संदेश भेजा जाना चाहिए। भाजपा विधायक मोहन ङ्क्षसह बिष्ट ने कहा कि सीबीआई द्वारा पकड़े गए डीटीसी अधिकारी ने अपने आप को बचाने के लिए विधायकों के नामों का हवाला दिया होगा। दिल्ली के      उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने निंदा करते हुए कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि सीबीआई के तेज दिमाग वाले अफसर इस तरह के तुच्छ मामले की जांच में अपनी मानसिक क्षमता खर्च कर रहे हैं। उन्होने कहा, वो तेरे डराने की इंतेहा थी, मेरे मन का डर निकलता गया, और मैं सिकंदर बनता गया। 

comments

.
.
.
.
.