Wednesday, Sep 18, 2019
no change in government stand on sabarimala chief minister thiruvananthapuram

सबरीमाला पर सरकार के रुख में कोई बदलाव नहीं: पिनराई विजयन

  • Updated on 8/30/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Chief minister Pinarayi Vijayan ) ने बृहस्पतिवार को कहा कि सबरीमला पर माकपा की अगुवाई वाली एलडीएफ (LDF) सरकार के रुख में कोई बदलाव नहीं हुआ है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा ने नये कानून के नाम पर श्रद्धालुओं को धोखा दिया है। विजयन ने यहां संवाददाताओं से कहा, "सबरीमला पर राज्य सरकार के रूख में कोई बदलाव नहीं आया है। हमारा रुख उच्चतम न्यायालय के आदेश का क्रियान्वयन करने का था। यदि न्यायालय कोई और आदेश देता है तो हम उसके मुताबिक काम करेंगे।" 

INX मीडिया केस: कोर्ट ने चिदंबरम को 2 सितंबर तक CBI हिरासत में ही रखने को कहा

गौरतलब है कि शीर्ष न्यायालय ने पिछले साल 28 सितंबर को सभी उम्र की महिलाओं को सबरीमला स्थित भगवान अयप्पा मंदिर में पूजा अर्चना करने की इजाजत दे दी थी। एलडीएफ सरकार ने जब अदालत के फैसले को लागू करने की घोषणा की थी तब समूचे राज्य में भाजपा और दक्षिणपंथी संगठनों ने प्रदर्शन किये थे। विजयन ने बृहस्पतिवार को कहा, "किसी को यह सोचने की जरूरत नहीं है कि राज्य में लोकसभा चुनाव के नतीजे निर्धारित करने के जो कारण रहे थे, वही पाला विधानसभा सीट उपचुनाव के परिणाम को भी प्रभावित करेंगे। भाजपा ने हमेशा ही सबरीमला का इस्तेमाल किया। यह हमें प्रभावित नहीं करने जा रहा।"

#GDP Decline :मोदी सरकार में अब GDP ने लगाया सबसे निचले स्तर पर गोता

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में राज्य की कुल 20 सीटों में विपक्षी कांग्रेस नीत यूडीएफ ने 19 सीटों पर जीत दर्ज की थी जबकि एलडीएफ महज एक सीट जीत पाई थी। विजयन ने कहा कि भाजपा ने अपने झूठे वादों में यकीन करने वाले लोगों को धोखा दिया है। दरअसल, भाजपा ने दावा किया था कि केंद्र सरकार (सबरीमला पर शीर्ष न्यायालय के फैसले को नाकाम करने के लिए) एक नया कानून लाएगी। 

PM मोदी के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा ने की इस्‍तीफे की पेशकश

मुख्यमंत्री ने कहा, "कहां हैं वे लोग, जिन्होंने दावा किया था कि वे सबरीमला से जुड़े विषय पर एक नया कानून लाएंगे ? अब वे (भाजपा) कह रहे हैं कि यह संभव नहीं है। क्या उन्होंने उन लोगों को धोखा दिया, जिन्होंने उन पर भरोसा किया था।"  उन्होंने यह भी कहा कि उनकी पार्टी श्रद्धालुओं के साथ है। उन्होंने कहा कि कुछ पार्टियां देश का संविधान फिर से लिखना चाहती हैं। लेकिन अभी एक निर्वाचित सरकार संविधान के मुताबिक ही काम करेगी। वहीं, विजयन के बयानों पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए भाजपा ने कहा कि यह वाम दल के वैचारिक दिवालियेपन को प्रर्दिशत करता है। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि माकपा और राज्य सरकार सबरीमला पर अपने दोहरे मानदंड से लोगों को ठग रही है।      
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.