Monday, May 23, 2022
-->
Opposition leaders marched demanding reinstatement of 12 suspended MPs

निलंबित 12 सांसदों की बहाली की मांग लेकर विपक्षी नेताओं ने मार्च किया

  • Updated on 12/14/2021

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। राज्यसभा से निलंबित 12 सांसदों का निलंबन रद्द करने की मांग लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी समेत कई अन्य विपक्षी दलों के नेताओं ने मार्च निकाला। विपक्षी नेताओं ने सरकार पर उनकी आवाज दबाने का आरोप लगाते हुए कहा कि लोकतंत्र को लगातार अपमानित किया जा रहा है।

महंगाई की मार : थोक मुद्रास्फीति बढ़कर 14.23 फीसदी पर, 12 साल का उच्चस्तर
संसद परिसर स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष पिछले 14 दिनों से धरना दे रहे 12 निलंबित सांसदों के साथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खडग़े, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, शिवसेना नेता संजय राउत और कई अन्य नेताओं ने विजय चौक तक मार्च निकाला। बाद में राहुल गांधी ने संवाददाताओं से कहा कि संसद में विपक्ष अपनी आवाज उठाने की कोशिश करता है, तो धमका कर, डरा कर, उनको निलंबित करके सरकार काम करती है। उन्होंने इसे लोकतंत्र की हत्या करार देते हुए कहा कि संसद में चर्चा होनी चाहिए, सभी मुद्दों पर चर्चा होनी चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि जो चर्चा हम करना चाहते हैं, वह हमें करने नहीं दी जाती है। सरकार के ऊपर हम सवाल उठाना चाहें, तो सरकार सवाल उठाने नहीं देती है। तीन-चार ऐसे मुद्दे हैं, जिनका सरकार नाम तक नहीं लेने देती है। यह सही तरीका नहीं है। राहुल ने दावा किया कि प्रधानमंत्री जी सदन में नहीं आते हैं। 13 दिन हो गए, प्रधानमंत्री सदन में नहीं आए। यह कोई लोकतांत्रिक तरीका नहीं है।

कृषि मंत्री तोमर बोले- किसानों के लिए विशिष्ट पहचान पत्र बनाने की चल रही है प्रक्रिया
शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि यह सिर्फ 12 सांसदों का निलंबन नहीं, बल्कि यह किसानों के आंदोलन के लिए सांसदों का सबसे बड़ा बलिदान है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र और न्याय शब्दों को यह सरकार सुनना ही नहीं चाहती है। आज तक हमारे लोकतांत्रिक इतिहास में यह नहीं देखा गया। उन्होंने कहा कि इसके खिलाफ हम लड़ेंगे। बता दें कि 29 नवंबर से शुरू हुए संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन राज्यसभा में कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों के 12 सदस्यों को इस सत्र की शेष अवधि के लिए निलंबित कर दिया गया था। निलंबन के बाद से ये सांसद संसद की कार्यवाही के दौरान प्रतिदिन सुबह से शाम तक संसद परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने धरना दे रहे हैं।

comments

.
.
.
.
.