Monday, Jun 27, 2022
-->
parliament session adjourned indefinitely a day before scheduled

तय कार्यक्रम से एक दिन पहले ही संसद का बजट सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

  • Updated on 4/7/2022

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। संसद का बजट सत्र वीरवार को अपने निर्धारित कार्यक्रम से एक दिन पहले ही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया। सत्र के अंतिम दिन भी राज्यसभा में विभिन्न मुद्दों पर विपक्ष के सदस्यों का हंगामा रहा, जिसके चलते नाखुश सभापति ने अपना पारंपरिक समापन संबोधन भी नहीं दिया।

जयराम रामेश ने संसद से पीयूष गोयल की गैरमौजूदगी को लेकर खड़े किए सवाल
संसद का बजट सत्र इस बार आठ अप्रैल तक चलना था, लेकिन वीरवार को लोकसभा की कार्यवाही शुरू होने के दस मिनट बाद ही अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दी गई। वहीं, राज्यसभा में शिवसेना और कांग्रेस सदस्यों ने जमकर हंगामा काटा। इससे काफी देर तक सदन की कार्यवाही बाधित रही। सभापति वेंकैया नायडू ने सदस्यों को समझाने की कोशिश की। बार-बार आग्रह के बाद भी हंगामा नहीं थमने पर नाखुशी जताते हुए नायडू ने अपना पारंपरिक समापन भाषण दिए बगैर ‘‘वंदे मातरम’’ की धुन बजाने को कहते हुए बैठक को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने की घोषणा कर दी।

इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव खारिज करने के फैसले को शीर्ष अदालत ने किया रद्द
संसद का बजट सत्र 31 जनवरी को दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के संबोधन के साथ शुरू हुआ था। एक फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2022-23 का आम बजट पेश किया। सत्र का पहला चरण 11 फरवरी तक चला। दूसरा चरण 14 मार्च से शुरू हुआ था। इस दौरान दोनों सदनों की 27 बैठकें हुईं जिनमें निम्न सदन (लोकसभा) में 129 प्रतिशत कामकाज हुआ, जबकि उच्च सदन (राज्यसभा) में यह 99.80 प्रतिशत। लोकसभा ने सत्र के दौरान कुल 40 घंटे देर तक बैठकर महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की, वहीं राज्यसभा में 9 घंटे 16 मिनट अतिरिक्त कामकाज हुआ और सदस्यों ने निर्धारित घंटों से अधिक समय तक बैठकर चर्चा में भाग लिया। राज्यसभा में विभिन्न मुद्दों पर व्यवधान के कारण सदन का 9 घंटे 26 मिनट का समय बर्बाद हुआ।
इस सत्र में ये अहम विधेयक पारित हुए
बजट सत्र में इस बार वित्त विधेयक 2022, दिल्ली नगर निगम संशोधन विधेयक 2022, सामूहिक संहार के आयुध और उनकी परिदान प्रणाली (विधि विरुद्ध क्रियाकलापों का प्रतिषेध) संशोधन विधेयक, 2022 तथा दंड प्रक्रिया (शिनाख्त) विधेयक, 2022 प्रमुख रूप से शामिल रहे।
स्पीकर से मिले पीएम, सत्ता और विपक्ष के नेता
संसद की कार्यवाही स्थगित होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी समेत अन्य दलों के नेताओं ने लोकसभा अध्यक्ष बिरला से उनके कक्ष में मुलाकात की। मिलने वालों में सपा के संस्थापक एवं सांसद मुलायम सिंह यादव, डीएमके नेता टी. आर. बालू, टीएमसी नेता सुदीप बंद्योपाध्याय, नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता फारूक अब्दुल्ला, वाईएसआर कांग्रेस के पी. वी. मिथुन रेड्डी तथा आरएसपी के एन. के. प्रेमचंद्रन आदि शामिल रहे।
महंगाई पर चर्चा से भागी सरकार: विपक्ष
तय समय से एक दिन पहले संसद सत्र समापन पर कांग्रेस समेत विभिन्न विपक्षी दलों ने सरकार को आड़े हाथ लिया। विपक्ष ने आरोप लगाया कि सरकार महंगाई के विषय पर चर्चा कराने से भाग खड़ी हुई, जिस कारण लोकसभा और राज्यसभा की बैठकें अचानक से स्थगित करवा दी गईं। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस यह भी दावा किया कि सरकार किसान संगठनों के साथ समझौते के संदर्भ में चर्चा नहीं कराना चाहती थी। राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खडग़े ने संवाददाताओं से कहा कि महंगाई सबसे बड़ा मुद्दा है। हम इस पर चर्चा चाहते थे, लेकिन सरकार चर्चा करने के लिए तैयार नहीं हुई। उन्होंने कहा कि एजेंडे में दोनों सदन शुक्रवार तक चलने थे। हम तो तैयार थे। लेकिन ऐसा लगता है कि गरीबों, किसानों और युवाओं की समस्याओं को यह सरकार सुलझाना नहीं चाहती। लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि तय कार्यक्रम से पहले इस तरह सत्र समापन करने की पूर्ववत कोई न सूचना दी गई थी और न ही कार्य मंत्रणा समिति (बीएसी) की बैठक में ही ऐसी चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि सरकार जवाबदेही से बचने के लिए सदन से भाग खड़ी हुई। राज्यसभा में कांग्रेस के मुख्य सचेतक जयराम रमेश ने राज्यसभा में सदन के नेता पीयूष गोयल की गैरमौजूदगी को लेकर सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि हमने अरुण जेटली और थावरचंद गहलोत को देखा है कि वे सदन में बैठा करते थे। लेकिन पहली बार देखा है कि सदन के नेता लापता हैं। वहीं, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के सांसद विनय विश्वम ने कहा कि अहंकार भाजपा सरकार ने अनिश्चितकाल के लिए सत्र स्थगित करा दिया। वह संसद में महंगाई पर चर्चा करने को लेकर भयभीत है, लेकिन दंड प्रक्रिया (शिनाख्त) विधेयक पारित करने को लेकर उत्सुक थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.