Friday, Jul 01, 2022
-->
Prime Minister Narendra Modi said, family parties are enemies of democracy

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, परिवारवादी पार्टियां लोकतंत्र की दुश्मन

  • Updated on 4/7/2022

नई दिल्ली /सुनील पाण्डेय : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज यहां सियासत में काबिज परिवारवाद, परिवारवादी राजनीति की फिर आलोचना की। साथ ही कहा कि परिवादवादी राजनीति लोकतंत्र की दुश्मन है और इसे बढ़ावा देने वाले दलों ने हमेशा वोट बैंक की राजनीति की है। मोदी ने बुधवार को आभासी माध्यम से यहां भाजपा के स्थापना दिवस के मौके पर पार्टी कार्यकर्ताओं, मंत्रियों, सांसदों और पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि देश में दशकों तक कुछ राजनीतिक दलों ने सिर्फ वोटबैंक की राजनीति की। कुछ लोगों को ही वायदे करो, ज्यादातर लोगों को तरसाकर रखो, भेदभाव-भ्रष्टाचार...। ये सब वोटबैंक की राजनीति का साइड इफेक्ट था। भाजपा ने इस वोट बैंक की राजनीति को टक्कर दी और इसके नुकसान देश को समझाने में सफल रही है।
    उन्होंने कहा कि हमारे लिए राजनीति और राष्ट्रनीति साथ-साथ चलते हैं। राजनीति से राष्ट्रनीति को अलग करके चलने वाले लोग नहीं हैं। ये भी सच्चाई है कि अभी भी देश में दो तरह की राजनीति चल रही है। एक राजनीति है परिवार भक्ति की और दूसरी है, राष्ट्र भक्ति की। केंद्रीय स्तर पर अलग-अलग राज्यों में कुछ राजनीतिक दल हैं, जो सिर्फ और सिर्फ अपने-अपने परिवार के हितों के लिए काम करते हैं। परिवारवादी सरकारों में परिवार के सदस्यों का स्थानीय निकाय से लेकर संसद तक दबदबा रहता है। ये अलग राज्यों में हों, पर परिवारवाद के तार से जुड़ रहते हैं। एक दूसरे के भ्रष्टाचार को ढंककर रखते हैं। इन परिवारवादी पार्टियों ने देश के युवाओं को भी आगे नहीं बढऩे दिया। उनके साथ हमेशा विश्वासघात किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज हमें गर्व होना चाहिए कि आज भाजपा ही इकलौती पार्टी है, जो इस चुनौती से देश को सजग कर रही है। लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ करने वाली ये पार्टियां, संविधान और संवैधानिक व्यवस्थाओं को भी कुछ नहीं समझतीं। ऐसी पार्टियों से आज भी हमारे कार्यकर्ता अन्याय, अत्याचार और हिंसा के खिलाफ लोकतांत्रिक मूल्यों के साथ लड़ रहे हैं।
    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भारतीय जनता पार्टी के 42वें स्थापना दिवस पर बुधवार को देश भर के पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ संवाद किया। साथ ही उनसे देश के नवनिर्माण में और जन-जन की सेवा में कटिबद्ध होकर महती भूमिका निभाने का आह्वान किया। पार्टी कार्यकर्ताओं का आह्वान करते हुए कहा कि वे आजादी के अमृत महोत्सव को कर्तव्यकाल में बदल दें। हाल ही में हुए विधान सभा चुनाव में चार राज्यों में भारतीय जनता पार्टी सरकार की पूर्ण बहुमत से वापसी हुई है, इससे भाजपा कार्यकर्ताओं की जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ गई है।

दलित, किसान, नौजवान एवं महिलाएं नए युग की ताकत

 प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भाजपा की नेकनीयत से किए जाने वाले कामों की वजह से जनता का भरपूर आशीर्वाद मिल रहा है। आज दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों, किसानों, नौजवानों के साथ ही जिस तरह महिलाएं भाजपा के पक्ष में मजबूती से खड़ी हुई हैं, वो अपने आप में नए युग की ताकत का प्रतिबिम्ब हैं। भाजपा का विजय तिलक करने में सबसे आगे माताएं-बहनें आती हैं। ये चुनावी घटना नहीं, सामाजिक और राष्ट्रीय जागरण है जिसका इतिहास में विश्लेषण किया जाएगा। महिलाओं में सुशासन और कड़े कानूनों से सुरक्षा का भाव हमने पैदा किया। स्वास्थ्य से लेकर रसोई की चिंता की है। मातृशक्ति में आत्मविश्वास पैदा हुआ है जो भारत को नई दिशा दे रही है। विकास में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाना हमारा दायित्व है।

भाजपा कार्यकर्ता का दायित्व लगातार बढ़ रहा


  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि वैश्विक दृष्टिकोण से देखें या राष्ट्रीय दृष्टिकोण से, भाजपा और भाजपा के प्रत्येक कार्यकर्ता का दायित्व लगातार बढ़ रहा है। इसलिए भाजपा का प्रत्येक कार्यकर्ता देश के सपनों के प्रतिनिधि है, देश के संकल्पों के प्रतिनिधि है। उन्होंने कहा कि इस अमृतकाल में भारत की सोच आत्मनिर्भरता की है। लोकल को ग्लोबल बनाने की है। सामाजिक न्याय की है। समरसता की है। इन्हीं संकल्पों को लेकर विचार के रूप में हमारी पार्टी की स्थापना हुई। ये अमृतकाल कार्यकर्ता के लिए कर्तव्य काल है। हमें देश के संकल्पों के साथ निरंतर जुड़े रहना है और खुद को खपा देना है। हमारी सरकार राष्ट्रीय हितों को सर्वोपरि रखते हुए काम कर रही है। आज देश के पास नीतियां भी हैं, नीयत भी है। पीएम मोदी ने कहा कि आज देश जमीन से जुड़े तमाम अभियानों को आगे बढ़ा रहा है। सरकार के अभियानों के सारथी भाजपा के कार्यकर्ता ही हैं। पार्टी आज से सामाजिक न्याय पखवाड़ा शुरू करने जा रही है। इस अभियान में सक्रियता से जुड़ें।

comments

.
.
.
.
.