Sunday, Jan 23, 2022
-->
punjab youth congress president barinder dhillon delhi police custody pragnt

दिल्ली पुलिस के हिरासत में PYC के अध्यक्ष बरिंदर ढिल्लो, ट्रैक्टर जलाने का लगा है आरोप

  • Updated on 9/29/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कृषि विधेयकों (Farm Bills 2020) को लेकर चल रहा विरोध काफी बढ़ गया है। सोमवार को राजधानी दिल्ली (Delhi) से लेकर पंजाब (Punjab) तक किसान का हल्ला बोल रहा। सुबह इंडिया गेट के पास पंजाब कांग्रेस के कार्यकर्ताओं द्वारा एक ट्रैक्टर में आग लगाई गई। जिसके खिलाफ कार्रवाई करते हुए आज  पंजाब यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष बरिंदर ढिल्लो को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया है।

भारी विरोध के बाद भी कृषि विधेयकों को राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

15-20 लोगों ने लगाई आग
डीसीपी नई दिल्ली का कहना है कि लगभग 15- 20 लोग यहां इकट्ठे हुए और ट्रैक्टर में आग लगाने की कोशिश की। आग पर काबू पा लिया गया है और ट्रैक्टर को भी हटा दिया गया। इसमें शामिल लोगों की पहचान की जा रही है। पुलिस इस पूरे मामले की जांच में जुटी है। युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता देश के अलग-अलग हिस्सों में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। पंजाब से लेकर कर्नाटक तक में कृषि विधेयकों का विरोध हो रहा है। 

कृषि विधेयक के विरोध में इंडिया गेट पर लगाई ट्रैक्टर में आग, 5 कांग्रेस कार्यकर्ता गिरफ्तार

अकाली दल ने तोड़ा एनडीए से नाता 
बता दें कि इस बिल के विरोध में अकाली दल ने एनडीए से नाता तोड़ लिया है। केंद्रीय मंत्री और अकाली दल नेता हरसिमरत कॉर ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। इस बिल के विरोध में रविवार को सुखबीर सिंह बादल, शिरोमणि अकाली दल (SAD) के अध्यक्ष ने रूपनगर, पंजाब में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। 

हाथरस की गैंगरेप पीड़िता की मौत पर उबले अखिलेश, मायावती ने भी योगी को लिया आड़े हाथ

1 अक्टूबर को निकालेंगे किसान मार्च- सुखबीर बादल
इस दौरान उन्होंने कहा कि अगर भारत में कोई एक पार्टी है जिसे किसानों की पार्टी के रूप में जाना जाता है, तो वह शिरोमणि अकाली दल (SAD) है। कांग्रेस, भाजपा और मुलायम सिंह की पार्टी को किसानों की पार्टी नहीं कहा जाता। उन्होंने कहा कि किसान मार्च तीन तख्तों से 1 अक्टूबर को शुरू होगा, और मोहाली तक जाएगा। हम राज्यपाल और राष्ट्रपति को ज्ञापन देंगे कि इन अध्यादेशों को स्वीकृति नहीं दी जानी चाहिए और सरकार को इनको वापस लेना चाहिए।

comments

.
.
.
.
.