Monday, Nov 18, 2019
pushkar fair prized buffalo of murra breed became the center of attraction in pushkar fair

धार्मिक नगरी में पुष्कर मेला बना आकर्षण का केंद्र

  • Updated on 11/6/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। राजस्थान के अजमेर जिले के पुष्कर में चल रहे पशु मेले में मुर्रा नस्ल का बेशकीमती भैंसा‘भीम’आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। जोधपुर से पुष्कर मेले में दूसरी बार प्रदर्शन के लिये लाये गये पौने सात वर्षीय मुर्रा नस्ल के इस भैंसे का वजन करीब सवा कुंटल (1,300 किलोग्राम) है।

पीएम मोदी ने किया इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल को संबोधित

14 फुट लंबे और 6 फुट ऊंचे भीमकाय शरीर के इस भैंसें को देखने के लिये लोगों का तांता लगा हुआ है। इस भीमकाय भैंसे को लेकर जोधपुर के जवाहर जाल जांगिड़ अपने पुत्र अरविंद जांगिड़ के साथ सोमवार को पुष्कर मेला पहुंचे। अरविंद ने बताया कि भीम को 2017 में उदयपुर में एग्रोटेक मीट के दौरान पहली बार चाढे चार वर्ष की उम्र में प्रर्दिशत किया था।

वहां भीम को भारत के सुपर युवराज चैंपियन को बीट करते हुए श्रेष्ठ पशु से सम्मानित किया गया था। उन्होंने बताया कि भीम को बचपन से पाला है और इसके रखरखाव व खुराक पर करीब प्रतिमाह एक लाख रुपए खर्च हो रहा है। भीम को प्रतिदिन एक किलो घी, आधा किलो मक्खन, दो सौ ग्राम शहद, 25 लीटर दूध, सूखे मेवे आदि खिलाया जाता है।

अयोध्या फैसले से पहले मुस्लिम समुदाय को लेकर RSS-BJP सक्रिय

अरविंद ने दावा किया कि भीम के लिये 2016 में सर्वप्रथम 60 लाख रूपये की आफर मिली थी जो धीरे धीरे बढ कर लगभग 15 करोड़ रूपये तक पहुंच गई हैं। वे भीम को बेचना नहीं चाहते हैं। वे मेले में भी भैंसे को बेचने के लिए नहीं बल्कि मुर्रा नस्ल के संरक्षण व संवर्धन के उद्देश्य से केवल प्रदर्शन करने के लिए लाए हैं।

अरविंद ने बताया कि इससे पहले वे गत वर्ष पहली बार पुष्कर मेले में भीम को लेकर आए थे। उन्होंने बताया कि भारत में अच्छी नस्ल के पशुधन की क्षमता बहुत है लेकिन साधन और धन की कमी की वजह से अच्छी नस्ल के ब्रीड तैयार नहीं हो पाती। पुष्कर मेले में वे पहली बार इच्छुक पशुपालकों को भीम का सीमन भी उपलब्ध करा रहे हैं।

चिन्मयानंद प्रकरण : #BJP के दो नेताओं के पास से मिली पीड़िता से छीनी गई पेन ड्राइव

मुर्रा नस्ल के इस भैंसे के सीमन की देश में बड़ी मांग है। अंतरराष्ट्रीय पशु मेले में विभिन्न प्रजाति के करीब पांच हजार से अधिक पशु पहुंचे हैं। इनमें कई ऊंट व अश्व और गोवंश देशी-विदेशी पर्यटकों को अपनी ओर आर्किषत कर रहे हैं। पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. अजय अरोड़ा बताया कि अच्छी नस्ल के भैंसे का वजन आमतौर पर 600 से 700 किलोग्राम का होता है।

comments

.
.
.
.
.